अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनोस झुकेंग न गुरुचाी छोडें़गे

फैसला हो चुका है हम सुनायेंगे जरूर सीएम शिबू सोरन ने ग्रामीण विकास मंत्री एनोस एक्का के सवाल पर कहा है कि कोई जानबूझ कर राजनीतिक दगाबाजी कर, वह माफ करने योग्य नहीं है। जो जसा किया है, वैसा भोगेगा। उन्होंने कहा कि एनोस के मामले में फैसला हो चुका है। हम उचित समय पर सुना देंगे। वैसे राजनीतिक सलाह के मुद्दे पर कोई अड़चन नहीं है, लेकिन कुछ तकनीकी पहलू हैं, चुनाव आयोग का मामला है, इसलिए फैसला सुनाने से पहले वह महाधिवक्ता से राय लेंगे।ड्ढr सीएम अपने आवास पर हुई यूपीए की बैठक के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। इधर, सूत्रों का कहना है कि यूपीए बजट पास कराने के बाद एनोस को गुरुवार की शाम बाहर का रास्ता दिखा देगा। गुरुाी ने कहा कि कोई यूपीए में रह कर अपनी ताकत से किसी को सीएम के विरुद्ध चुनाव लड़ाये, यह सोच के बाहर है। ऐसा आदमी भरोसे का नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि बैठक में एनोस नहीं आया, यह कम दुखद नहीं है। एनोस ने जिस प्रकार से चुनौती दी है, उसके बाद भी कार्रवाई नहीं की जाये, तो दुनिया उन्हें क्या कहेगी। जनता क्या कहेगी।ड्ढr इससे पूर्व मंत्री भानु प्रताप शाही ने भी बताया कि यूपीए की बैठक में सीएम को कार्रवाई के लिए अधिकृत कर दिया गया है। गिरिनाथ सिंह ने कहा कि एनोस का चुनाव लड़ना राजनीतिक विकृति का उदाहरण है। वह गुरुाी के शिष्य थे, तो अपनी सीट खाली करके चुनाव लड़ने देते। यूपीए की बैठक में पूर्व सीएम मधु कोड़ा, मंत्री कमलेश सिंह, सुधीर महतो, नलिन सोरन मौजूद नहीं थे। कई विधायक भी गायब रहे। जो आये, उनमें स्टीफन मरांडी, दुलाल भुइयां, भानु प्रताप शाही, हरिनारायण राय, मनोज यादव, गिरिनाथ सिंह, अन्नपूर्णा देवी, सौरभ नारायण सिंह, नियेल तिर्की, रवींद्र महतो और मथुरा महतो शामिल हैं।इस्तीफा नहीं दूंगा निकालें मुख्यमंत्रीरांची (हिब्यू)। ग्रामीण विकास मंत्री एनोस एक्का ने कहा है कि पार्टी और तमाड़ की जनता की इच्छा पर वहां हमने प्रत्याशी दिया है। इससे पहले उन्होंने सीएम से भी सहमति ली थी। नामांकन से पूर्व जल संसाधन मंत्री कमलेश सिंह के आवास पर हुई बैठक में, जिसमें हरिनारायण राय भी मौजूद थे, साथ ही फोन पर मधु कोड़ा से भी प्रत्याशी खड़ा करने पर सहमति ले ली थी। अब सीएम को उन्हें कैबिनेट से निकालना है, तो निकालें। वह इस्तीफा नहीं देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि मैं मंत्री पद के बगैर नहीं रह सकता, इसे भी वह जनता के समक्ष दिखा देना चाहते हैं।ड्ढr एनोस मंगलवार को अपने आवास पर प्रेस कांफ्रेंस में बोल रहे थे। इसमें राजा पीटर, प्रभाकर तिर्की, अशोक भगत, अमूल्य नीरा खलखो और अन्य भी मौजूद थे। एक्का ने कहा कि वह सरकार में हैं, यूपीए में नहीं। गठबंधन में होने का मतलब होता है कि मेरी पार्टी के लिए भी कुछ सीटें तय हों। पर मुझे तो पता है कि चुनाव आयेगा तो यूपीए कोलेबिरा भी मेर लिए छोड़ेगा। एनोस ने दुहराया कि यूपीए के कुछ नेताओं ने बातचीत से उन्हें दूर रखा। सीएम और उन्हें दोनों को धोखा दिया। वह तो बातचीत करने सीएम के पास गये थे, लेकिन उन्होंने यह कह कर दुत्कार दिया कि वह यूपीए से बात करं, क्योंकि वह बात करंगे तो उन्हें एनोस का दलाल समझा जायेगा। इसलिए अब बातचीत का चैप्टर क्लोज हो चुका है। एनोस ने कहा कि यह गुरुाी विषय है कि उनकी जगह पर कोड़ा, हेमंत या दुर्गा सोरन किसको रखते हैं।ड्ढr एनोस ने कहा कि गुरुाी तमाड़ से सीएम की हैसियत से नहीं एक प्रत्याशी की हैसियत से ही चुनाव लड़ें। उन्होंने चुनाव आयोग से भी आग्रह किया है कि जिस तरह से उन्हें धमकाया जा रहा है, पावर और प्रशासन का वहां दुरुपयोग संभव है। मैं पूरी तरह यूपीए में हूं और शिबू सोरन यूपीए के प्रत्याशी हैं. इसलिए स्वाभाविक रूप से गुरुाी के लिए तमाड़ में चुनाव प्रचार भी करूंगा और उनकी जीत सुनिश्चित करने की कोशिश करूंगा. हालांकि गुरुाी की जीत में कहीं कोई शंका की गुंजाइश नहीं है. जहां तक ग्रामीण विकास मंत्री एनोस एक्का को मंत्रिमंडल से निकालने की बात है, तो यह गुरुाी के विवेक पर निर्भर करता है, वह यूपीए विधायक दल के नेता हैं, मुख्यमंत्री हैं, इसलिए सब कुछ उन्हीं पर निर्भर करता है. हालांकि अभी भी समय है, सब कुछ ठीक किया जा सकता है, कोशिश होनी चाहिए. तमाड़ उपचुनाव को लेकर यूपीए में जो परंपरा शुरू हुई है, वह ठीक नहीं है। मधु कोड़ा पूर्व मुख्यमंत्री

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एनोस झुकेंग न गुरुचाी छोडें़गे