अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुराने भर नहीं,55 कॉलेचा लाइन में

प्रदेश में 55 नए इांीनियरिंग व प्रबंधन कॉलेा खुलेंगे। यूपीटीयू व एआईसीटीई में इनकी सम्बद्धता व मान्यता के प्रस्ताव पहुँच चुके हैं। सबसे यादा कॉलेाों के प्रस्ताव नोएडा व गााियाबाद से आए हैं। कानपुर, मेरठ व लखनऊ में भी कई नए कॉलेा खुलेंगे। इन कॉलेाों के खुलने के बाद सूबे में यूपीटीयू से सम्बद्ध इांीनियरिंग कॉलेाों की संख्या 481 होोाएगी। इस बीच विवि ने सम्बद्धता के नियमों को और कड़े करने के संकेत दिए हैं।ड्ढr इस वर्ष प्रदेश में 140 नए इांीनियरिंग व प्रबंधन कॉलेा खुले थे। इसमें से लगभग 75 प्रतिशत कॉलेाों में अभी भी लगभग 12 हाार सीटें रिक्त पड़ी हैं। कम छात्र संख्या के कारण शिक्षक व कर्मचारी रखने में कॉलेाों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। दो कॉलेाों ने विवि को प्रार्थना पत्र देकर इन छात्रों को दूसर कॉलेाों में स्थानान्तरित करने का अनुरोध किया था। नए खुलने वाले 55 कॉलेाों में 50 केवल बीटेक के हैंोबकि शेष पाँच एमबीए व एमसीए के हैं। इन कॉलेाों के खुलने से विश्वविद्यालय से सम्बद्ध इांीनियरिंग संस्थानों की संख्या 426 से बढ़कर 481 होोाएगी। उत्तर प्रदेश प्राविधिक विश्वविद्यालय के रािस्ट्रार यू.एस.तोमर कहते हैं कि विश्वविद्यालय इांीनियरिंग कॉलेाों को सम्बद्धता देने के लिए नए नियम बना रहे हैं। विवि की राय प्रवेश परीक्षा (एसईई) के आवेदन पत्रों की बिक्री शुरू होने से पहले नए नियम निर्धारित होोाएँगे। इसके लिए कमेटी गठित कर दी गई है। इन नियमों के लागू होने के बाद कॉलेाों को विवि से आसानी से सम्बद्धता नहीं मिल सकेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पुराने भर नहीं,55 कॉलेचा लाइन में