अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तुम्हारी सारी अदाएं कयामत नहीं

एनडीए-यूपीए को नचाने वाले निर्दलीयों ( दो) को एक साथ सरकार से बर्खास्त करने का यह पहला मामला है। तमाड़ उपचुनाव के बहाने एनोस एक्का के साथ हरिनारायण राय को सरकार से बाहर करने की अंतरकथा भी कम दिलचस्प नहीं है गुरुवार की शाम यूपीए की बैठक में राजद- कांग्रेस ने शिबू सोरन से दो टूक कहा कि अब और मोहलत बर्दाश्त नहीं। कांग्रेस- राजद के रणनीतिकारों ने कहा कि एनोस ने आपको (गुरुाी ) नहीं यूपीए को चुनौती दी है। कांग्रेस- राजद का तेवर देख क्षण भर के लिए गुरुाी सहमे भी पर उनका भी दर्द हरा हो गया।ड्ढr उन्होंने सरकार की सेहत के अंकगणित के बार में पूछा। थोड़ी देर इस पर चर्चा हुई फिर फैसले पर मुहर लगी। यूपीए के शीर्ष नेताओं से भी बात की गयी। परिस्थितियां जान दिल्ली दरबार ने भी ओके कर दिया। बुधवार की रात यूपीए की बैठक के बाद सोरन ने झामुमो के कुछ खास नेताओं के साथ बैठक कर इस मुद्दे पर चर्चा की थी। छह दिन से शिबू ,एनोस की गतिविधियों को लेकर अंदर से काफी आहत थे। झामुमो नेताओं ने भी सोरन को कड़ा कदम उठाने को सुझाया था। दोनो मंत्रियों के खिलाफ निगरानी में एफआरआर दर्ज होने के बाद कांग्रेस- राजद नेताओं ने बैठक कर मन की बात शिबू को बतायी थी। तमाड़ उपचुनाव ने तो आग लगाकर रख दी। यह बात भी सामने आयी कि फैसला लेने में देर होने पर निर्दलीयों का मन बढ़ेगा और गुटबाजी बढ़ेगी।ड्ढr तमाड़ ने इस मामले में आग लगा दी। यूपीए की बैठकों में सभी निर्दलीयों के शामिल नहीं होने पर राजद- कांग्रेस की बारीक नजर थी। रणनीतिकारों का कहना था कि निर्दलीयों को अहसास कराना जरूरी है कि तुम्हारी सारी अदायें कयामत नहीं हो सकती। अब दो मंत्रियों की बरखास्तगी से शिबू को तमाड़ चुनाव से आगे तक के लिए बल मिला है वहीं निर्दलीय भी सकते में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तुम्हारी सारी अदाएं कयामत नहीं