अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उग्रवाद पर विस में हंगामा

उग्रवाद पर विधानसभा लगातार चौथे दिन गरम रही। विपक्ष सवाल पर सवाल दागता रहा और सरकार बचाव करती रही। विपक्ष ने पूछा, सरकार की उग्रवाद नीति क्या है? सीएम जवाब नहीं दे पाये। उग्रवादियों को क्यों छोड़ा गया, किसके दबाव में छोड़ा गया, विपक्ष ने इसकी सीबीआइ जांच की मांग की। हंगामा भी हुआ। विपक्षी कई बार वेल में आये। सवालों के संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर विपक्ष लंच के पहले से वॉक आउट कर गया।ड्ढr प्रश्नकाल शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष अजरुन मुंडा ने मामला उठाते हुए कहा कि चुनाव में लाभ लेने के लिए उग्रवादियों को थाने से छोड़ा जा रहा है। यह साधारण घटना नहीं। विपक्ष के कई सदस्य खड़े होकर इसपर सरकार से स्थिति स्पष्ट करने की मांग करने लगे। रवींद्र राय ने कहा कि सीएम का बयान आया है कि उग्रवादी उनके भाई-बंधु हैं। सीपी सिंह ने कहा कि यही स्थिति रही तो उग्रवादी विस तक पहुंच जायेंगे। रघुवर ने पूछा कि उग्रवादी हिंसा समाप्त करने की सरकार की क्या नीति है? सवालों से घिर सीएम ने कहा वह दो बजे के बाद जवाब देंगे। लेकिन विपक्ष अड़ा रहा। तब उन्होंने जानकारी दी कि देवड़ी मंदिर से गिरफ्तार जिन तीन लोगों रांन राय, शिवशंकर मुंडा और गंगाधर मुंडा को छोड़ा गया, वे उग्रवादी नहीं हैं। तमाड़ थाना में उनसे पूछताछ हुई थी। उन्हें निजी मुचलके पर छोडा़ गया। सीएम ने कहा कि श्याम पाहन और रांू मुंडा नाम के किसी व्यक्ित को न गिरफ्तार किया गया, न छोड़ा गया। सीएम के जवाब पर रवींद्र राय ने प्रतिवाद किया और कहा कि यह भ्रामक है। सीएम सच्चाई को झुठला रहे हैं। बुंडू डीएसपी की हत्या किसने की? रमेश मुंडा को किसने मारा? बैंक का पांच करोड़ रुपया और दो किलो सोना किसने लूटा? राहे बाजार में पांच जवानों को किसने मारा? राज्य में कानून-व्यवस्था की धज्जियां उड़ रही है। सरकार उग्रवादियों को संरक्षण दे रही है। उग्रवाद से निपटने को बनायेंगे सर्वदलीय समिति: मुख्यमंत्रीरांची। सीएम शिबू सोरन ने कहा कि उग्रवाद की समस्या निपटाने के लिए सरकार सर्वदलीय समिति बनाकर काम करगी। उग्रवादियों को मुख्यधारा में लाने के लिए सुरक्षा और विकास पर विशेष जोर दिया जा रहा है। चिह्नित थानों में अतिरिक्त केंद्रीय बल तैनात किया जा रहा है। 61 नये थाने बनाये जा रहे हैं।ड्ढr पुलिस आधुनिकीकरण के तहत वायरलेस सेट लगाये जा रहे हैं। 10 जिलों में विशेष विकास योजना केंद्र को स्वीकृति के लिए भेजी गयी है। राज्य में विशेष कृषि योजना इसी वर्ष से लागू की जा रही है। खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम भी लागू किया जायेगा। गुरुाी मुख्यमंत्री प्रश्नकाल में नेता प्रतिपक्ष अजरुन मुंडा, रघुवर दास, राधाकृष्ण किशोर और विनोद सिंह के उग्रवाद से जुड़े अलग-अलग सवालों का एक साथ जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि उग्रवादी हिंसा में मरनेवालों के आश्रितों को मुआवजा और योग्य परिानों को नौकरी देने की व्यवस्था की जा रही है। वैसे अभी भी उग्रवादी हिंसा के शिकार सरकारीकर्मियों के परिानों को उनकी नौकरी के पूर कार्यकाल का वेतन मिलता है। सीएम के जवाब पर मुंडा ने कहा कि उग्रवाद की नीति पर सरकार सदन को भ्रामक सूचना दे रही है। विपक्ष सरकार के वक्तव्य से सहमत नहीं है। इसलिए विपक्ष सदन का बहिष्कार करता है। इसके साथ ही विपक्षी सदस्य सदन से बाहर निकल गये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उग्रवाद पर विस में हंगामा