DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपने गानों में कभी भी शालीनता नही छोड़ूंगा : खेर

अपने गानों में कभी भी शालीनता नही छोड़ूंगा : खेर

'अल्लाह के बंदे' गाकर प्रसिद्व हुए कैलाश खेर संगीत को अपनी जिंदगी मानते हैं उनका का कहना है कि वो अपने गानों में कभी भी शालीनता की सीमाएं नहीं लांघेंगे। 37 वर्षीय खेर को फिल्म इंडस्ट्री मे आए आठ वर्ष हो गए हैं और उन्होंने 70 से अधिक फिल्मों के लिए कई लोकप्रिय गीत गाए हैं।
    
गायक कैलाश खेर का कहना है कि उन्हें नहीं लगता कि वो कभी भी शालीनता की सीमाएं लांघ सकते हैं। वो कभी भी गानों में ऐसे शब्दों का प्रयोग नहीं करेंगे जो बेमतलब हो और जिनसे संगीत की गुणवत्ता कम होती हो।
   
कैलाश के अनुसार संगीत विचारों की अभिव्यक्ति का जरिया है और उन्हें नहीं लगता कि वो कभी भी अर्थहीन गाने गा सकते हैं। वो डीके बोस जैसा गाना कभी नहीं गा सकते। उन्हें लगता है कि अश्लील गानों में संगीत के नाम पर कुछ भी नहीं होता, ऐसे गाने केवल फिल्म को प्रचार दिलाने के लिए होते हैं।

फिल्मकारों को लगता है कि ऐसे गानों की वजह से फिल्म हिट हो जाएगी, इसी वजह से ऐसे आइटम सांग फिल्मों में रखे जाते हैं। कैलाश ने यह बातें यहां एक संगीत चैनल के कार्यक्रम में भाग लेने के दौरान कहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपने गानों में कभी भी शालीनता नही छोड़ूंगा : खेर