DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अक्सर पुरुष प्रधान होते हैं कॉमेडी किरदार : मिनीषा

अक्सर पुरुष प्रधान होते हैं कॉमेडी किरदार : मिनीषा

आगामी फिल्म 'भेजा फ्राय 2' को लेकर उत्साहित अभिनेत्री मिनीषा लांबा को लगता है कि कॉमेडी के क्षेत्र में पुरुष आगे हैं और इस विधा में महिलाओं को ध्यान में रखकर ज्यादा किरदार नहीं गढ़े जाते।

मिनीषा का 'भेजा फ्राय 2' में एक अहम किरदार है। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कॉमेडी महिलाओं के लिए मुश्किल नहीं है। लेकिन कॉमेडी फिल्मों में फिलहाल महिलाओं को ध्यान में रखकर ज्यादा किरदार नहीं लिखे जाते ये भूमिकाएं अधिकतर पुरुष प्रधान ही होती हैं। यह इसलिए क्योंकि पुरुष ऐसे कई मजाकिया संवाद बोल सकते हैं जो महिलाओं पर अच्छे नहीं लगते।
  
मिनीषा ने कहा कि जैसे कुछ अश्लील या द्विअर्थी चुटकुले, महिलाएं इन्हें बोलते हुए अच्छी नहीं लगेंगी। पुरुष कलाकार द्वारा बोले जाने पर ही ये प्रभाव डालते हैं। 'बचना-ए-हसीनों' में रोमांटिक, 'किडनैप' में रोमांचक, और 'वेल डन अब्बा' में राजनीतिक किरदार निभाने के बाद अब मिनीषा 'भेजा फ्राय 2' तथा 'हम तुम' और 'शबाना' के जरिए कॉमेडी के क्षेत्र में हाथ आजमाने जा रहीं हैं।
  
सागर बल्लरी के निर्देशन में बनी 'भेजा फ्राय 2' 2007 में इसी नाम से बनी सफल फिल्म का सीक्वल है। मिनीषा ने कहा कि मैंने पहले भेजा फ्राय देखी है। यह फिल्म पहली फिल्म से एकदम अलग है और इसके किरदार नए हैं।
  
उन्होंने कहा कि एक मात्र मेरा किरदार ही है जिसका भेजा भारत भूषण से फ्राय नहीं होता। वह उसकी मासूमियत देखता है और उसे समझता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अक्सर पुरुष प्रधान होते हैं कॉमेडी किरदार : मिनीषा