अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जम्मू कश्मीर में राजधानी का कामकाज श्रीनगर पहुंचा

जम्मू कश्मीर में ‘दरबार परिवर्तन’ की प्रक्रिया पूरे होने के साथ राज्य सरकार यानी मुख्यमंत्री सचिवालय का कामकाज सोमवार से से ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर से शुरू हो गया। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार इस सचिवालय में दाखिल होने वाले उमर अब्दुल्ला को इस अवसर पर पुलिस ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया। बाद में उन्हें अधिकारियों ने स्वागत किया। हालांकि अब्दुल्ला ने चुनाव आचार संहिता के कारण पत्रकारों को संबोधित नहीं किया। दरबार परिवर्तन नाम से चर्चित इस राजधानी परिवर्तन के लिए 25 अप्रैल को ही जम्मू में मुख्यमंत्री सचिवालय, मंत्रियों के कार्यालय तथा अन्य विभाग बंद हो गए थे। दरअसल राज्य में राजधानी परिवर्तन की परंपरा 140 वर्ष पुरानी है। राज्य में जहां छह महीने के लिए शीतकाल में सरकार का कामकाज जम्मू से संचालित होता है। वहीं ग्रीष्मकाल में छह महीने के लिए श्रीनगर को राजधानी बनाया जाता है। हालांकि दरबार परिवर्तन को लेकर राजकोष पर अरबों रुपए का बोझ पड़ता है और नए कार्यालयों में कामकाज का सिलसिला ढंग से 15 दिनों बाद ही शुरू हो पाता है। राजधानी के श्रीनगर आने के साथ ही यहां सुरक्षा काफी बढ़ा दी गई है। दरअसल 10 के दशक में आतंकवादियों ने सरकारी कार्यालयों पर हमले किए थे। किसी भी तरह के आतंकवादी हमले को विफल करने के लिए सरकारी कार्यालयों के आसपास के इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जम्मू कश्मीर में राजधानी का कामकाज श्रीनगर पहुंचा