अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘लाल मस्जिद का बदला ले रहा है तालिबान’

पाकिस्तान के एक कट्टरपंथी मौलवी का कहना है कि पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत में जो अशांति है वह दो साल पहले इस्लामाबाद स्थित लाल मस्जिद पर की गई सैन्य कार्रवाई का बदला है। लाल मस्जिद के प्रमुख मौलाना अब्दुल अजीज ने स्थानीय समाचार पत्र ‘डॉन’ से बातचीत में कहा कि मस्जिद से संबद्ध मदरसे में पढ़ने वाले ज्यादातर छात्र पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत के स्वात, बुनेर और दीर इलाके से थे और वे मस्जिद पर की गई कार्रवाई का बदला ले रहे हैं। पिछले महीने ही अजीज जेल से दो साल की सजा काट कर रिहा हुआ है। उसने कहा कि मदरसे में पढ़ने वाले छात्र अब मेरे नियंत्रण में नहीं हैं। स्वात व बुनेर में वो जो भी कर रहे हैं वह उनका खुद का फैसला है। अजीज ने कहा कि मैंने उस समय सरकार से कहा था कि अगर मस्जिद पर सैन्य कार्रवाई की गई तो स्थिति नियंत्रण से बाहर जा सकती है और मैं प्रतिक्रिया के लिए जिम्मेदार नहीं रहूंगा। उसने दावा किया कि जुलाई, 2007 में सेना की कार्रवाई में महिलाओं और बच्चों समेत सैकड़ों लोग मारे गए थे। इसके साथ ही 10 सुरक्षाकर्मियों की भी जान गई थी। गौरतलब है कि तत्कालीन पाक राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने कहा था कि कार्रवाई में आतंकवादी मारे गए हैं और इसमें कोई महिला या बच्चा नहीं मारा गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘लाल मस्जिद का बदला ले रहा है तालिबान’