अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पप्पू और भी हैं

गाली देने के लिए राजनीति और नेता हमारे प्रिय पात्र हैं। जरा-सी फुरसत, तशरीफ रखने की जगह, चार-पांच निकम्मे दोस्त, अदरक वाली चाय और उसमें डुबो खान के लिए दो-चार बिस्किट हों तो किसी भी नेता को, किसी भी कोण से, कितनी भी देर तक, कहीं भी निपटा सकते हैं। सौभाग्य देखिए, गाली देने के लिए न तो हममें स्पिरिट की कमी है और न ही इस महान देश में गाली खाने वाले नेताओं की। भ्रष्टाचार अगर उनका व्यवहार बन चुका है तो गालियां उनका पसंदीदा आहार। इसे खाए बिना उन्हें लगता ही नहीं कि आज कुछ खाया है। ये गाली उनकी थाली का स्थायी हिस्सा बन चुकी है और हमने भी कुशल गृहिणी की तरह आज तक उन्हें कभी शिकायत का मौका नहीं दिया। मगर दिक्कत ये है कि नेता अगर गालियां खाकर लोकतंत्र चला रहे हैं तो हम भी उन्हें सिर्फ गालियां दे कर लोकतंत्र में अपने कर्तव्यों की इतिश्री समझ रहे हैं। मुम्बई के लोगों ने तो इस मामले में कमाल ही कर दिया है। आतंकी हमलों के बाद जिस तरह मोमबत्तियां जलान का आक्रामक अभियान चलाया गया उसमें मोमबत्तियां भी खुद को मशाल समझन की गलतफहमी पाल बैठीं थी। दुनिया को भी लगने लगा मुम्बईवासियों ने सारे घर को बदलन की ठान ली है। भ्रष्ट और मक्कार नेताओं के दिन अब लद गए। ये शहर अब खुद को नए नेतृत्व के लिए तैयार कर रहा है। मगर इसे उम्मीद का विपरीत अंत कहें या एंटी क्लाइमैक्स, चुनाव के दिन पचास फीसदी लोग भी वोट देने नहीं निकले। आग उगलते नेताओं को बुझ चुकी नेताओं के हवाल कर नेताओं ने अपने फर्ज से पिंड छुड़ा लिया। फ्रेंच मैनिक्योर्ड नेताओं को नीली स्याही से खराब करन के बजाए उन्होंने मुम्बई के नजदीक किसी हिल स्टेशन पर एक्सटैंडिड वीकएंड बिताना बेहतर समझा। वैसे भई जिन लोगों ने जिंदगी बर्बाद कर दी थी, उनकी खातिर वो अपना वीक-ऑफ क्यों बर्बाद करते। मुम्बईवासियों ने जा करना था कर दिया, अब बारी दिल्लीवासियों की है। भाई लोगों, मुम्बईवाले हमेशा से खुद को ज्यादा एडवांस बता तुम्हें चिढ़ाते रहे हैं। जेसिका लाल से लेकर अमन काचरू हत्याकांड तक मोमबत्तियां तुमने भी कम नहीं जलाई हैं। लोकतंत्र की रक्षा के लिए तुम भी फर्ज निभा चुके हो। गुरुवार को चुनाव है। शनि, रवि की छुट्टी रहती है। शुक्र की छुट्टी के लिए आज ही अप्लाई कर दो। मुम्बईवाले अगर खंडाला और महाबलेश्वर जा सकते हैं तो क्या नैनीताल और मसूरी के लिए बस चलनी बंद हो गई हैं। फौरन रिजर्वेशन करवाओ। मक्कारी के मामले में अतिआत्मविश्वास अच्छा नहीं होता। शहर में पप्पू और भी हैं!

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पप्पू और भी हैं