अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बांग्लादेश: जलपोत मामले में भारतीय उच्चायुक्त तलब

बांग्लादेश ने शनिवार को भारतीय उच्चायुक्त पिनाक रंजन चक्रवर्ती को विदेश मंत्रालय तलब कर बंगाल की खाड़ी में बांग्लादेश की समुद्री सीमा में भारतीय जलपोत की सर्वेक्षण गतिविधियों पर औपचारिक विरोध जताया। बांग्लादेश के विदेश सचिव तौहीद हुसैन ने संवाददाताआें को बताया कि उच्चायुक्त से कहा गया है कि भारत बांग्लादेश की समुद्री सीमा से अपने जलपोत को हटा ले और वहां किसी भी तरह की सर्वेक्षण या अन्य गतिविधि को रोक दे। बांग्लादेश ने कहा है कि भारत को जलपोत की गतिविधियों को तब तक स्थगित रखना चाहिए जब तक दोनों देशों के बीच जलीय सीमा का निर्धारण नहीं हो जाता। उन्होंने उम्मीद जताई कि भारतीय जलपोत ढ़ाका के विरोध के बाद अपनी गतिविधि रोक देगा। उन्होंने बताया कि चक्रवर्ती ने बांग्लादेश के समक्ष प्रस्ताव रखा है कि वह समुद्री सीमा के निर्धारण के लिए भारत में अपनी एक तकनीकी टीम भेजे। चक्रवर्ती ने कहा है कि भारत का मानना है कि इस क्षेत्र में सीमा आेवरलेपिंग है और भारत तथा बांग्लादेश दोनों ही इस पर दावा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले पर विचार विमर्श चल रहा है इसलिए बांग्लादेश को अपनी टीम जल्द से जल्द भारत भेजनी चाहिए। दोनों देशों ने इस मुद्दे पर पिछले 22 वषर्ों के बाद इस वर्ष सितम्बर में बातचीत शुरू की है। चक्रवर्ती ने कहा है कि ये भारतीय जलपोत नहीं हैं बल्कि जमैका के पोत हैं और इन्हें एक निजी कंपनी ने लिया हुआ है। इस कंपनी के पास भारत सरकार की आेर से खोज तथा सर्वेक्षण का लाइसेंस है। यह पूछे जाने पर कि क्या पोत विवादास्पद क्षेत्र से हटा लिए जाएंगे उन्होंने कहा कि बिल्कुल लेकिन सर्वेक्षण का काम पूरा होने पर। उनका जो काम है वह पूरा होने पर वे जल्द ही वापस चले जाएंगे। एक अन्य प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि जब बातचीत जारी है तो बांग्लादेश को ब्लाक 14 में गैस के बारे में अंतरराष्ट्रीय नीलामी का कदम नहीं उठाना चाहिए था क्योंकि उसे अच्छी तरह पता है कि यह विवादास्पद क्षेत्र है। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश की टीम को विवाद को सुलझाने के लिए भारत जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो दोनों का दावा रहेगा और दोनों के पोत आएंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या इससे तनाव बढ़ सकता है उन्होंने कहा कि इसमें तनाव की कोई बात नहीं है और दोनों पक्ष निरंतर संपर्क में रहते हैं। बांग्लादेश के विदेश सचिव ने कहा कि भारत का प्रस्ताव सकारात्मक है और बांग्लादेश जनवरी के अंत में एक टीम बातचीत के लिए भारत भेजेगा हालाकि अभी इस की तारीख तय नहीं की गई है। इस बीच विदेश मंत्रालय में सलाहकार डा. इफ्तिखार अहमद चौधरी ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि बातचीत से यह मुद्दा सुलझा लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बांग्लादेश: भारतीय उच्चायुक्त तलब