अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश के साथ भेदभावपूर्ण रवैया:मायावती

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमों और उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने सोमवार को आरोप लगाया कि केन्द्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार ने राय के साथ हमेशा भेदभाव पूर्ण रवैया अपनाया है। प्रदेश सरकार ने विपरीत परिस्थितियों में केन्द्र सरकार की मदद के बगैर अपने विकास कायर्ो को आगे बढाया हैं। बसपा प्रत्याशी अमरपाल शर्मा के समर्थन में यहां चुनावी सभा में बोलते हुए मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश ही नही बल्कि पूरे देश की समस्याआें से अगर निजात पाना है तो केन्द्र में भी बसपा को लाना होगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और समाजवादी पार्टी (सपा) पूजीपतियों की पार्टी है और उन्ही के इशारों पर योजनाएं बनाती हैं। जबकि बसपा अपने कार्यकर्ताआें के खून पसीने की कमाई से संघर्ष कर सत्ता तक पहुंची है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि प्रदेश के लिए केन्द्र से 80 हजार करोड़ का पेकेज मांगा गया था जिसमें से एक रुपया भी नहीं दिया गया और इसी वजह से कांग्रेस से समर्थन वापस लिया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था का राज कायम किया गया तथा एक सासंद,दो मंत्री और दो विधायकों तक को जेल भेजा गया। उन्होंने कहा कि अन्य दल चुनाव में घिनोने षडयंत्र रच कर मतदाताआें को भ्रमित करने का प्रयास कर रहे हैं।ड्ढr मायावती ने कहा कि कांग्रेस गरीब बच्चों को गोद में लेकर और झौपड़ी में जाकर बैठने का नाटक रचते है जबकि बसपा ही सर्वजन की पार्टी है। भाजपा प्रत्याशी राजनाथ सिंह बाहरी व्यक्ित है और कांग्रेस प्रत्याशी सुरेन्द्र प्रकाश गोयल केन्द्र में सरकार होते हुए भी जिले में विकास कार्य नहीं करा सके। उन्होंने कहा कि बसपा प्रत्याशी को भारी मतों से विजई बनाकर बसपा का दिल्ली सत्ता का रास्ता मजबूत करें। जनसभा में मंत्री बालेश्वर त्यागी मुनकाद अली एवं ब्रजेश पाठक समेत हजारों लोग शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रदेश के साथ भेदभावपूर्ण रवैया:मायावती