अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना जिले में नहीं हो सका युवा महोत्सव

पहली बार आयोजित राज्यस्तरीय युवा महोत्सव में पटना जिले के युवा कलाकार अपनी प्रतिभा दिखाने से वंचित रह गए। साथ ही वंचित हो गए राष्ट्रीय स्तर पर होने वाल राष्ट्रीय युवा महोत्सव में राज्य का प्रतिनिधित्व करने से।ड्ढr जिलास्तरीय युवा महोत्सव का आयोजन नहीं होने के चलते जिले के युवा तबका को यह मौका नहीं मिल सका। राज्य सरकार द्वारा हर जिले में जिलास्तरीय युवा महोत्सव के आयोजन के लिए चिट्ठी भेजी गयी थी। पटना जिला के कई प्रतिभागियों को व्यक्ितगत हैसियत से कुछ प्रतियोगिताओं में शिरकत करने का मौका मिला।ड्ढr ड्ढr सूत्रों के मुताबिक पटना जिला प्रशासन को इस बाबत चिट्ठी विलंब से मिली। इस वजह से जिले में यह आयोजन नहीं हो सका। राजधानी में 23 से 25 दिसंबर को हुए ‘युवा बिहार 08’ में समूह लोकनृत्य, एकल लोकगीत, समूह लोकगीत, शास्त्रीय व उपशास्त्रीय गायन, शास्त्रीय नृत्य, वाद्य वादन, सुगम संगीत, एकांकी नाटक, पेंटिंग, फोटोग्राफी, मूर्तिकला, हस्तशिल्प,वक्तृता आदि में युवाओं को अपनी प्रतिभा राज्यस्तरीय मंच पर दिखाने का मौका प्रदान किया गया। कुल 30 श्रेणियों में प्रतियोगिता हुई पर पटना के प्रतिभागी (व्यक्ितगत स्तर पर शामिल) कुछ अधिक तीर नहीं मार सके। गिटार में एक ही प्रतिभागी पटना का था जिसे पहला स्थान मिला। ओडिसी नृत्य में पटना की अश्रुता सिंह अव्वल रहीं। समूह लोकगीत में पटना की नीलू कुमारी व सखियां दूसर स्थान पर रहीं। शास्त्रीय गायन, एकांकी नाटक में पटना जिले की सहभागिता नहीं रहने से कलाकारों में घोर निराशा रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पटना जिले में नहीं हो सका युवा महोत्सव