DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रीति के मंत्र ने बदली पंजाब की किस्मत

प्रीति के मंत्र ने बदली पंजाब की किस्मत

प्रीति जिंटा का प्रेरणादायी मंत्र किंग्स इलेवन पंजाब के लिए संजीवनी बन गया। इंडियन प्रीमियर लीग में लगातार पांच हार के बाद प्रीति ने अपने खिलाड़ियों को ओजस्वी भाषण दिया था जिसका इतना गहरा प्रभाव पड़ा कि टीम ने लगातार चार मैच जीतकर खुद को प्ले आफ की दौड़ में शामिल कर दिया।

यह आठ मई की बात है जब किंग्स इलेवन पंजाब की टीम को मोहाली में पुणे वारियर्स के हाथों पांच विकेट से करारी हार झेलनी पड़ी थी। यह पंजाब की लगातार पांचवीं हार थी जिससे वह प्ले आफ की दौड़ से बाहर होता दिख रहा था। तब यह टीम अंक तालिका में सबसे निचले यानी दसवें पायदान पर थी।

किंग्स इलेवन की सह मालकिन प्रीति ने इस मैच के बाद सभी खिलाड़ियों को बुलाया और उनसे कहा कि वे सभी प्रतिभाशाली हैं और दुनिया की किसी भी टीम की बराबरी कर सकते हैं। उन्होंने कहा था कि हम हारें या जीते यह मायने नहीं रखता लेकिन महत्वपूर्ण यह है कि हम अच्छा प्रदर्शन करें।

प्रीति के इस भाषण के बाद ही टीम के आलराउंडर डेविड हस्सी ने साफ कर दिया कि था खिलाड़ी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने को प्रतिबद्ध हैं और अब किंग्स इलेवन पूरी तरह से बदली हुई टीम दिखेगी।

यह प्रीति की बातों का ही जादू था कि किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाड़ियों ने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा और लगातार चार मैच जीतकर प्ले आफ में पहुंचने की अपनी उम्मीद जीवंत बनाए रखी। प्रीति से प्रेरणादायी मंत्र मिलने के बाद पंजाब ने चारों मैच में बड़े अंतर से जीत दर्ज करके अपना नेट रन रेट भी बेहतर कर दिया जो आगे अगर मगर की किसी स्थिति में उसके पक्ष में काम कर सकता है।

पंजाब ने इसके बाद मुंबई इंडियन्स को 76, कोच्चि टस्कर्स केरल को छह विकेट, दिल्ली डेयरडेविल्स को 29 रन और रायल चैलेंजर्स बेंगलूर को 111 रन से करारी शिकस्त दी। इससे पहले कप्तान एडम गिलक्रिस्ट का बल्ला नहीं चल रहा था लेकिन बेंगलूर के खिलाफ उन्होंने तूफानी शतक जड़ दिया जबकि शान मार्श टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज को मिलने वाली ओरेंज कैप हासिल कर गए।

पंजाब के अब 13 मैच में 14 अंक हैं। उने अपना अंतिम मैच 21 मई को डेक्कन चार्जर्स से धर्मशाला में खेलना है। यदि वह इस मैच में भी बड़े अंतर से जीत दर्ज करता है तो फिर वह प्ले आफ में पहुंचने का दावेदार बना रहेगा हालांकि इसके लिए उसे कोलकाता नाइटराइडर्स या मुंबई इंडियन्स की अगले दोनों मैच में हार की दुआ करनी होगी।

पंजाब के लगातार चार मैच में बड़े अंतर से जीत के इस करिश्माई प्रदर्शन से कोलकाता की परेशानियां बढ़ सकती हैं जिसके 12 मैच में 14 अंक हैं। कोलकाता यदि अब एक मैच भी हारता तो उस पर प्ले ऑफ से बाहर होने का खतरा मंडराने लग जाएगा। कोलकाता को कल पुणे वारियर्स और 22 मई को मुंबई इंडियन्स से भिड़ना है।

यदि कोलकाता अपने दोनों मैच हार जाता है और पंजाब अगला मैच जीत जाता है तो नाइटराइडर्स बाहर हो जाएगा। यदि कोलकाता एक मैच जीतता है और पंजाब अपना मैच बड़े अंतर जीत जाता है तो भी कोलकाता की टीम खतरे में रहेगी। जहां तक मुंबई का सवाल है तो उसका नेट रन रेट पंजाब से कम है। यदि वह अगले दोनों मैच हारता है और पंजाब अगला मैच जीत जाता है तो फिर सचिन तेंदुलकर की अगुवाई वाली टीम पर खतरा मंडराने लग जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रीति के मंत्र ने बदली पंजाब की किस्मत