DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रद्द हो भूमि अधिग्रहण अधिनियम: अजित

राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के अध्यक्ष अजित सिंह ने बुधवार को भूमि अधिग्रहण अधिनियम 1894 को निर्थक बताते हुए उसे रद्द करने की मांग की और ग्रेटर नोएडा के भट्टा पारसौल कांड की न्यायिक जांच कराने की कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी की मांग को जायज करार दिया।

सिंह ने कहा कि सार्वजनिक हित के नाम पर किसानों की जमीन जबरन हथियाए जाने का आरोप लगाते हुए कहा मेरे विचार से भूमि अधिग्रहण कानून 1894 ने अपनी सार्थकता खो दी है और इसे तुरन्त निरस्त किये जाने की आवश्यकता है।

रालोद अध्यक्ष ने कहा कि इस कानून का पूरे देश में दुरुपयोग हो रहा है लेकिन उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री मायावती तो यह काम को बड़ी बेशर्मी से कर रही हैं और प्रदेश सरकार ने यमुना एक्सप्रेस-वे प्राधिकरण के लिये 1190 राजस्व गांवों की दो लाख हेक्टेयर जमीन लेने की तैयारी कर ली है।

सिंह ने कहा कि इस अधिनियम के स्थान पर एक अधिक व्यावहारिक, प्रगतिशील, समयबद्ध, स्पष्ट और व्यापक कानून बनाया जाना चाहिए जो व्यक्तिगत हित साधने के बजाय पूरे समुदाय के कल्याण के सिद्धांत पर आधारित होना चाहिये।

कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी द्वारा भट्टा-पारसौल कांड की सीबीआई या न्यायिक जांच की मांग के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कोई जिम्मेदार सांसद या जनप्रतिनिधि अगर मामले के तमाम सुबूत मौजूद होने का दावा करे तो सरकार को उस प्रकरण की न्यायिक जांच करानी चाहिए। सिंह ने कहा कि भट्टा पारसौल में पुलिस ने अराजक तत्वों जैसा बर्ताव किया और मायावती सरकार ने वहां आतंक का माहौल पैदा किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रद्द हो भूमि अधिग्रहण अधिनियम: अजित