DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फायदेमंद है थोड़ा तनाव

फायदेमंद है थोड़ा तनाव

तनाव हमारी जिंदगी के हर हिस्से में शामिल हो चुका है। आज हम अपने जरूरी काम की तरह तनाव को भी ढोते रहते हैं। कई बार तो पता ही नहीं चलता कि हम तनाव के शिकार भी हैं। नया शोध बताता है कि छोटे तनाव हमारे लिए कई बार फायदेमंद भी साबित होते हैं। बता रही हैं आरती मिश्र

जब तक हम रातभर करवट न बदलें, बिना वजह रोना-हंसना शुरू न कर दें या अन्य कोई असामान्य सी हरकत न करें तो हमें यह एहसास ही नहीं होता कि हम तनाव की जद में हैं। हालांकि यह बात अलग है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जो नवीन आंकड़े जारी किए हैं, उनके अनुसार भविष्य में तनाव विश्व के ज्यादातर लोगों को अपनी जद में ले लेगा।

दरअसल, शहर छोटे हों या बड़े, लोग न जाने किस रेस में अंधाधुंध दौड़े जा रहे हैं और बच्चों को भी इसी में लगा देते हैं। उन पर पैदा होने के बाद से ही अच्छे अंक लाने का दबाव बना देते हैं, पढ़ाई के साथ-साथ म्यूजिक या डांस, किसी अन्य फील्ड में भी अगुआ बना देना चाहते हैं, जिससे बच्चे भी तनाव का शिकार होने लगे हैं। बड़ों का तो पूछना ही क्या? रोजी-रोटी की चिंता में वे न जाने किन-किन तनावों को सहते-ढोते फिरते हैं?

लेकिन आज हम आपको बता रहे हैं तनाव को देखने-समझने का एक अलग नजरिया। तनाव के बुरे प्रभावों के बारे में आपने आज तक बहुत कुछ पढ़ा होगा, पर क्या आप जानते हैं कि तनावग्रस्त होने पर व्यक्ति मानसिक तौर पर अधिक सशक्त हो जाता है और उसके संबंधों में भी प्रगाढ़ता आती है। बस शर्त इतनी है कि यह तनाव छोटा हो। किसी बड़ी समस्या या दुर्घटना के कारण न उपजा हो।

जी हां, हाल ही में एक शोध में यह बात सामने आई है कि तनाव, हमारी जागरूकता में इजाफा करता है। इसके पीछे कारण यह है कि तनावग्रस्त व्यक्ति जीवन को एक अलग तरीके से देखने का प्रयास करता है। वह परेशान तो होता है, लेकिन उसके मन में अपनों को, नौकरी को, सुख-सुविधाओं को खो देने का एक डर भी बना रहता है, जिसकी वजह से वह इनके प्रति अधिक सकारात्मक रवैया अख्तियार कर लेता है। यह संभव है कि वह खुद परेशान रहे और इसका असर उसके स्वास्थ्य पर भी दिखे, लेकिन वह अपने आसपास के वातावरण को सहज बनाने का पूरा प्रयास करता है।

एक महत्वपूर्ण तथ्य और भी है, हम तनाव का नाम आते ही उसके दुष्प्रभावों के बारे में विचार करने लगते हैं। यह शब्द हमारे लिए एक डर का पर्याय बन गया है। लोगों की मानसिकता यही है कि न जाने इसका उन पर क्या असर होगा।

यह तथ्य है कि आजकल वर्कलोड और तेजी से भागते जीवन में तनाव एक कटु सत्य है, लेकिन इससे भी बेहतर यह है कि इससे कुछ न कुछ फायदे तो होते ही हैं। डॉक्टरों ने इसकी पुष्टि की है। वे कहते हैं कि मानव शरीर में तनाव कई बार बड़ी समस्याओं से लड़ने की हिम्मत देता है।

कुछ छोटे तनाव फायदेमंद हो सकते हैं। इससे हमें जटिल परिस्थितियों से लड़ने की क्षमता मिलती है।
यह उसी तरह होता है, जैसे फिल्म चक दे इंडिया में तनाव ही चुनौतियों और प्रतियोगिता का सामना करने का हौसला देता है।
तनाव लंबे समय तक नहीं चलना चाहिए। छोटे-मोटे तनाव लेने हानिकारक नहीं हैं।
तनाव से ही केटेकोलेमिनीज हार्मोस निकलते हैं, जो स्वयं को आगे रखने या चुनौतियों से लड़ने में सहायक हैं।
अच्छा तनाव आपके लिए इस तरह मददगार हो सकता है- नौकरी के लिए इंटरव्यू में, परीक्षा के लिए, पहली डेट के लिए, किसी महत्वपूर्ण प्रेजेन्टेशन के लिए।
डॉ.  प्रवीण गुप्ता, वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट, आर्टिमिस हॉस्पिटल

यूं होता है छोटा-मोटा तनाव

शोर, भीड़भाड़ का वातावरण
असुविधाजनक तापमान
ट्रैफिक जाम
लाइन में खड़े होकर इंतजार करना
अक्खड़, गुस्सैल या अति प्रतियोगात्मक भावना वाले लोगों के बीच रहना या काम करना
किसी नए घर या शहर में बसना
अधिक जिम्मेदारियां
प्राइवेसी न मिलना
एक ही समय में कई तरह के रोल निभाना
डेडलाइंस का खयाल
बॉस या अन्य साथी कर्मचारियों का दबाव
काम का अनियमित समय तक या देर तक काम करने का दबाव
किसी बड़े प्रोजेक्ट को समय पर पूरा करने का दबाव
कोई वादा निभाने की परवाह
टास्क को निर्धारित समय पर पूरा करने का दबाव

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फायदेमंद है थोड़ा तनाव