DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीयू में सिखाए जाएंगे मंदी से उबरने के गुर

बीबीएस और बीएफआईए कोर्स में छात्रों के लिए इस बार केस स्टडीज को भी शामिल किया गया 

दिल्ली विश्वविद्यालय में बीबीई (बैचलर ऑफ बिजनेस इकोनॉमिक्स), बीबीएस (बैचलर ऑफ बिजनेस स्टडीज) और बीएफआईए (बैचलर ऑफ फायनेंशियल इंवेस्टमेंट और एनालिसिस) में छात्र अब मंदी से निपटने के गुर सीख सकेंगे। हालांकि पिछली बार ही छात्रों के सिलेबस में इसे शामिल किया गया था पर इस बार इसमें केस स्टडीज को बढ़ाया गया है।

इस बार इन विषयों के कोर्स में छात्र जहां प्रायोगिक स्टडी के द्वारा मंदी आने के कारणों के बारे में जान सकेंगे वहीं इसके निदान के बारे में भी जानकारी पा सकेंगे। कोर्स में कोलेटरल डेट ऑब्लीगेशन का चैप्टर आया है जिसमें अमेरिका ने फाइनेंस और रियल इस्टेट सेक्टर को मंदी से बाहर कैसे निकाला इस बारे में जानकारी दी जाएगी। दिल्ली विश्वविद्यालय में बीबीई (बैचलर ऑफ बिजनेस इकोनॉमिक्स), बीबीएस (बैचलर ऑफ बिजनेस स्टडीज) और बीएफआईए बैचलर ऑफ फायनेंशियल इंवेस्टमेंट और एनालिसिस की प्रवेश परीक्षा पांच जून को होनी है। बीबीएस और बीएफआईए में चयनित छात्रों का ग्रुप डिस्कशन और पर्सनल इंटरव्यू की सूची 13 जून को प्रकाशित की जाएगी। 30 जून को परीक्षा परिणाम की घोषणा की जाएगी और पहली काउंसलिंग 2 जुलाई से शुरू हो जाएगी। 

दोहराव को हटाया गया

उपरोक्त कोर्सों को रिवाइज करते समय उनमें मौजूद दोहराव को हटाया गया है। ये दोहराव स्पष्ट रूप से तो नहीं था परंतु कुछ टॉपिक विषय में एक बार से अधिक आ जा रहे थे ऐसे में इस बार सिलेबस बनाते समय इसका ध्यान रखा गया है। इसके लिए आईआईएम के पूर्व प्रोफेसर जे.डी.सिंह, एमडीआई, गुड़गांव के प्रोफेसर और आईएमटी के प्रोफेसरों की मदद ली गई है।

फॉर्म भरने की पूरी प्रकिया ऑनलाइन थी। ऐसे में आपको अब परिणाम से लेकर अन्य जरूरी सूचनाएं ई-मेल और मोबाइल में एसएमएस के माध्यम से मिल जाएगी। ऐसे में यह जरूरी है कि फॉर्म भरते समय आप सही ई-मेल आईडी और फोन नंबर
प्रदान करें।

फर्जी प्रमाणपत्र में पकड़े छात्रों को दी राहत

दिल्ली विश्वविद्यालय ने छात्रों द्वारा अनुसूचित जाति/जनजाति के फर्जी प्रमाणपत्र प्रस्तुत करने वाले छात्रों को फौरी राहत दे दी है। डीयू ने कुछ दिनों पहले फर्जी प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के इल्जाम में 85 छात्रों को पकड़ा था जिनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई गई थी। डीयू ने फैसला किया है कि फिलहाल ये छात्र परीक्षा में बैठ सकते हैं लेकिन इसके पहले इनको अंडरटेकिंग फॉर्म भरना होगा और असली प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।

डीयू को नोटिस

डीयू ने कर्मचारी का पहले वेतन बढ़ाया और फिर 11 साल बाद इसे गलत बताकर उनसे चार लाख रुपये वसूलने का फरमान जारी कर दिया। हाईकोर्ट ने फैसले पर रोक लगाते हुए किरोड़ी मल कॉलेज के लैब असिस्टेंट शाहजी कुमार को फिलहाल राहत दे दी है। साथ ही डीयू को इस संबंध में नोटिस जारी किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डीयू में सिखाए जाएंगे मंदी से उबरने के गुर