DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिता का नहीं खुद का लगाएं प्रमाण पत्र

दिल्ली विश्वविद्यालय में एससी और एसटी कोटे के तहत दाखिला लेने वाले छात्रों को अपने नाम का जाति प्रमाण पत्र लगाना होगा। छात्रों के पिता के नाम पर जारी प्रमाण पत्र मान्य नहीं होगा। इसके अलावा शारीरिक रूप से विकलांग छात्रों को भी विकलांगता प्रतिशत वाला प्रमाण पत्र देना होगा। डीयू के डीन ऑफ स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. जेएम खुराना ने बताया कि इस साल एससी और एसटी कोटे के तहत दाखिला में छात्रों को उनके अपने नाम पर जारी जाति प्रमाण पत्र ही दाखिल करना होगा। उन्होंने बताया कि ऐसा देखा जाता है कि छात्र पिता के नाम पर निर्गत प्रमाण पत्र के साथ फॉर्म भरते हैं, जो इस साल से मान्य नहीं होगा। उन्होंने बताया शारीरिक रूप से अक्षम छात्रों को विकलांगता का प्रतिशत अंकित प्रमाण पत्र ही मान्य होगा। उन्होंने बताया कि इस साल से दाखिले के प्रक्रिया में बदलाव किया गया है। अब सीधे कटऑफ जारी होगा। छात्रों को फॉर्म नहीं भरना होगा। लेकिन, एससी और एसटी के छात्रों के लिए केंद्रीकृत फॉर्म भरने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि छात्रों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए हेल्पलाइन सेंटर बनाए जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पिता का नहीं खुद का लगाएं प्रमाण पत्र