DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्ले ऑफ पर कोच्चि की निगाहें

प्ले ऑफ पर कोच्चि की निगाहें

उतार चढ़ाव भरे सफर से गुजरती कोच्चि टस्कर्स केरल की टीम मंगलवार को गत चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ बड़े अंतर से जीत दर्जकर नेट रन रेट के आधार पर प्ले आफ में क्वालीफाई करने के मकसद से उतरेगी वहीं मेजबान टीम का लक्ष्य अपने घरेलू मैदान पर मौजूदा सत्र के अपराजेय रिकार्ड को बचाए रखकर तालिका में फिर से शीर्ष स्थान पाने का होगा।
 
कोच्चि टीम अपने 13 मैचों से 12 अंक ले चुकी है और आखिरी लीग मैच में बड़े अंतर से एक जीत उसे प्ले ऑफ में स्थान दिला सकती है लेकिन इसके लिए उसे चेन्नई की मजबूत टीम के खिलाफ लोहे के चने चबाने होंगे। कोच्चि की राह इसलिए भी कठिन है कि अब तक उसकी जीतों में अहम भूमिका निभाने वाले कप्तान माहेला जयवर्धने शायद इस मैच में नहीं खेल सकेंगे।

दूसरी ओर, चेन्नई ने इस सत्र में घरेलू मैदान पर कोई मैच नहीं गंवाया है, इसलिए वह लीग का समापन भी घरेलू मैदान पर अपराजेय रहने के रिकार्ड के साथ करना चाहेगी। प्लेआफ में टीम की जगह पक्की हो चुकी है फिर भी वह तालिका में शीर्ष स्थान पाने के लिए पूरा जोर लगाएगी। तालिका की शीर्ष दो टीमों को प्ले आफ में फायदा मिलने वाला है इसलिए भी महेन्द्र सिंह धोनी कोई जोखिम नहीं लेना चाहेंगे।

इस मैच में जहां चेन्नई का दारोमदार शानदार फार्म में चल रहे उसके धुरंधर बल्लेबाजों माइक हसी, सुरेश रैना और मुरली विजय पर टिकी होगी वहीं कोच्चि को अपने सुधरते गेंदबाजों से बेहतर प्रदर्शन की आस रहेगी।

हसी, रैना और विजय की तिकड़ी को कप्तान धोनी और युवा एस बद्रीनाथ का बेहतर साथ मिलता रहा है। टीम इस तालमेल को आगे भी जारी रखना चाहेगी। हसी शुरुआती कुछ ओवरों में ही मैच का रुख तय कर सकते हैं और एक बार उनका अट्टहास गूंज जाए तो विपक्षी टीम के लिए काफी मुश्किलें पैदा हो सकती हैं।

दूसरी तरह माहेला की गैरमौजूदगी कोच्चि की परेशानी बढ़ा सकती है। अब तक वह ब्रेंडन मैकुलम के साथ मिलकर विध्वंसक ओपनिंग किया करते थे। माइकल क्लिंगर और पार्थिव पटेल अब तक खुद को साबित नहीं कर पाए हैं। ऐसे में माहेला के नहीं रहने पर आलराउंडरों रवीन्द्र जडेजा और ब्रैड हाज की जिम्मेदारियां बढ़ जाएंगी।

हाज और जडेजा ने गेंदबाजी में भी अच्छी छाप छोड़ी है। उन्हें स्ट्राइक गेंदबाजों रुद्र प्रताप सिंह और आर विनय कुमार का पूरा साथ देना होगा। शांतकुमारन श्रीसंत वापसी के बाद से बढ़िया लय में दिख रहे हैं। वहीं चेन्नई के विकेट से भली भांति वाकिफ मुथैया मुरलीधरन को अगर इस मैच में अंतिम एकादश में शामिल किया जाता है तो वह ट्रंप कार्ड साबित हो सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्ले ऑफ पर कोच्चि की निगाहें