DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लापता चुनावकर्मियों का नहीं मिला सुराग

बिहार के जमुई जिले में रविवार को हुए बारूदी सुरंग विस्फोट के बाद से लापता हुए चुनावकर्मियों का मंगलवार तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है। चुनावकर्मियों का पता लगाने के लिए पुलिस ने खोजी अभियान को और तेज कर दिया है।

राज्य पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक नक्सलियों द्वारा इन चुनावकर्मियों को अगवा किए जाने की आशंका को देखते हुए उनके खिलाफ छापेमारी अभियान चलाया जा रहा है।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक राज्यवर्धन शर्मा ने मंगलवार को बताया कि चुनावकर्मियों को मुक्त कराने के लिए विशेष कार्य बल (एसटीएफ), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), बिहार सैन्य बल (बीएमपी) और जिला पुलिस बल द्वारा सघन अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें हेलीकॉप्टर की भी मदद ली जा रही है।

उन्होंने बताया कि पूरे अभियान का नेतृत्व पुलिस महानिरीक्षक (अभियान) के एस द्विवेदी कर रहे हैं। झारखंड और बिहार राज्य की सीमा पर चल रहे इस अभियान में झारखंड पुलिस की भी मदद ली जा रही है।

उल्लेखनीय है कि रविवार को बिहार पंचायत चुनाव के नौवें चरण के मतदान के दिन जमुई जिले के सोनो थाना क्षेत्र के छुछुनरिया पंचायत में मतदान केंद्र पर जा रहे एक वाहन को नक्सलियों ने बारूदी सुरंग लगाकर उड़ा दिया था। इस घटना में वाहन के चालक अरूण मंडल की मौत हो गई जबकि एक चुनावकर्मी गम्भीर रूप से घायल हो गया था।

विस्फोट के बाद से ही वाहन पर सवार सात लोग नागेश्वर मेहता, धीरज कुमार, नरेश साह, मनोज कुमार, कपिलदेव तांती, श्यामदेव वर्मा तथा ओमप्रकाश ठाकुर लापता हो गए थे। पुलिस को आशंका है नक्सलियों ने उन्हें अगवा कर लिया है।

गौरतलब है कि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) ने पंचायत चुनाव के बहिष्कार की घोषणा कर रखी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लापता चुनावकर्मियों का नहीं मिला सुराग