DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्नाटक की कलह ने केंद्र को दुविधा में डाला

कर्नाटक में राष्ट्रपति शासन की राज्यपाल हंसराज भारद्वाज की सिफारिश ने केंद्र सरकार को दुविधा में डाल दिया है। पिछले छह माह में राज्यपाल ने इस तरह की दोबारा सिफारिश की है।

राज्यपाल की अति सक्रियता से नाराज भाजपा ने राष्ट्रपति से उन्हें वापस बुलाने की मांग की है। लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में राजग के प्रतिनिधिमंडल ने पीएम से मिलकर भारद्वाज की शिकायत भी की। इस बीच मुख्यमंत्री येदियुरप्पा राज्य के विधायकों और सांसदों को लेकर सोमवार देर रात दिल्ली पहुंच गए हैं। इससे पहले दिन में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार सुबह अपने कुछ वरिष्ठ सहयोगियों के साथ बैठक में राज्यपाल की रिपोर्ट पर चर्चा की। सरकार की ओर से हाल ही में मीडिया संबंधी मामलों के लिए गठित जीओएम की बैठक में भी इस मसले पर विचार हुआ।

कांग्रेस व सरकार में सूत्रों का मानना है कि राज्यपाल की रिपोर्ट यूं ही खारिज नहीं की जा सकती। कांग्रेस नेतृत्व इस तरह के फैसले के संभावित परिणाम का आकलन कर रहा है। माना जा रहा है कि सरकार को बर्खास्त करने पर येदियुरप्पा को सहानुभूति का लाभ मिल सकता है। वहीं यूपीए के अन्य सहयोगी दल भी इसके लिए तैयार नहीं होंगे।
(दिल्ली संस्करण)

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कर्नाटक की कलह ने केंद्र को दुविधा में डाला