DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भट्टा की राख में दबे हैं नरकंकाल

जमीन अधिग्रहण के खिलाफ भट्टा पारसौल की जंग को कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने सोमवार को और आगे बढ़ा दिया। राहुल ने आरोप लगाया कि पुलिस फायरिंग में कई लोग मारे गए हैं। महिलाओं के साथ बलात्कार हुआ। तकरीबन 70 फुट के इलाके में किसानों की लाशों की राख फैली हुई है, जिनसे नरकंकाल निकल रहे हैं।

इस मुद्दे पर उन्होंने किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात की। उन्होने गांव के किसानों के दर्द और पुलिस के जुल्म बयां करती कुछ तस्वीरें भी प्रधानमंत्री को दिखाईं। प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने कहा, ‘किसान विकास के लिए जमीन देने को तैयार हैं, पर इसके लिए उनका हक मारा जा रहा है। जान की कीमत पर जमीन ली जा रही है। यह हमारे अपने लोग हैं।’

किसान प्रधानमंत्री से मिलकर अपनी बात रखना चाहते थे, इसलिए वह उनके साथ वहां पहुंचे। भूमि अधिग्रहण बिल पर उन्होंने कहा कि संसद के अगले सत्र में यह पारित हो जाएगा। किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन भी सौंपा है।

अधिग्रहण का विरोध कर रहे किसानों पर फायरिंग के बाद राहुल गांधी 11 मई को भट्टा-परसौल पहुंचे थे। राहुल ने तब वादा किया था कि जब तक यूपी सरकार उनकी मांग नहीं मानेगी, उनका आंदोलन जारी रहेगा।
(दिल्ली संस्करण)

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भट्टा की राख में दबे हैं नरकंकाल