DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

येदियुरप्पा के समर्थन में उतरे नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद और कर्नाटक के राज्यपाल की अनुशंसा को लेकर इस भाजपा शासित दक्षिण भारतीय राज्य में मची उथल पुथल पर सोमवार को कहा कि वहां के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को सदन में बहुमत साबित करने का मौका मिलना चाहिए।

जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम से इतर कर्नाटक के संबंध में एक प्रश्न के जवाब में नीतीश ने कहा कि सरकार को सदन में शक्ति परीक्षण की अनुमति मिलनी चाहिए। सरकारिया आयोग की सिफारिशों से लेकर उच्चतम न्यायालय के समय समय पर दिये गये फैसलों में बहुमत साबित करने के बारे में प्रावधान हैं।

उन्होंने कहा कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री को बहुमत साबित करने का मौका मिलना चाहिए और इसमें किसी प्रकार की दखलंदाजी नहीं होनी चाहिए।

बहुमत साबित करने के लिए सदन को उचित मंच बताते हुए नीतीश ने कहा कि राज्य के ऐसे मामलों में यदि दखल दी जाती है तो यह सीमाओं का अतिक्रमण होगा।

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष द्वारा अयोग्य ठहराये गये भाजपा के 16 विधायकों को योग्य करार दिया था। इनमें से 11 को पार्टी ने येदियुरप्पा सरकार को समर्थन देने के मना लिया है। इस मामले को लेकर कर्नाटक के राज्यपाल एचआर भारद्वाज ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की अनुशंसा केंद्र सरकार को भेजी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:येदियुरप्पा के समर्थन में उतरे नीतीश