DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करात ही रहेंगे महासचिव माकपा

करात ही रहेंगे महासचिव माकपा

पश्चिम बंगाल और केरल विधानसभा चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद माकपा ने सोमवार को नेतृत्व में किसी बदलाव की संभावना से इनकार किया। विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार के कारणों पर विचार के लिए वरिष्ठ नेताओं की सोमवार को बैठक हो रही है।

पार्टी ने उन खबरों को भी अफवाह करार दिया जिनमें कहा गया था कि पश्चिम बंगाल के निवर्तमान मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने राज्य में पार्टी की हार की जिम्मेदारी लेते हुए पोलित ब्यूरो से बाहर होने की पेशकश की है। भट्टाचार्य सोमवार को पोलित ब्यूरो की बैठक में शामिल नहीं हुए। बैठक में चुनाव नतीजों पर चर्चा होनी है।

पोलित ब्यूरो के सदस्य एमके पंधे ने कहा कि पोलित ब्यूरो चुनाव नतीजों पर प्रारंभिक विचार-विमर्श करेगा और केंद्रीय समिति चुनावों में हार के कारण का विस्तार से विश्लेषण करेगी। विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार के बाद नेतृत्व में परिवर्तन के बारे में पूछे जाने पर पंधे ने कहा कि मैं नहीं समझता कि नेतृत्व में कोई बदलाव होगा।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि भट्टाचार्य के बाहर होने की खबरें सही नहीं हैं। हमें किसी चीज के बारे में कोई सूचना नहीं दी गई है। यह गलत है।  पश्चिम बंगाल माकपा के सचिव विमान बोस ने भट्टाचार्य के पोलित ब्यूरो से बाहर होने की पेशकश को खबरों को अफवाह बताया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:करात ही रहेंगे महासचिव माकपा