DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निजामाबाद थाना क्षेत्र से गुजरने वाली तमसा नदी में जगह-जगह पानी के रंग में बदलाव और बड़ी संख्या में मछलियों को मरते देख नदी के किनारे के ग्रामीणों में भय व्याप्त हो गया है। पानी के जहरीले होने की आशंका से ग्रामीण अपने मवेशियों को भी नदी का पानी नहीं पिला रहे हैं।

तमसा तटवर्ती मुसलिमपी, रेवरा, अहमदाबाद, सेमरी और चकिया सहित विभिन्न गांवों के पास प्रदूषण की वजह से जगह-जगह पानी का रंग काला हो चुका है और मछलियां मरती जा रही हैं। यह बदलाव देखकर लोगों को पानी के जहरीला होने की आशंका हो रही है। इससे भयभीत होकर ग्रामीण इस गर्मी में भी पशुओं को नदी मेन नहलाना और उसका पानी पिलाना बंद कर चुके हैं।

पहले लोग नदी में नहाते भी थे, लेकिन अब वह क्रम भी बंद हो गया है। ग्रामीणों ने बताया कि नदी के पानी में जिस स्थान पर मछलियां रहती हैं वहां का पानी लोग इस्तेमाल करते रहे हैं, किन्तु पानी के बदरंग होने और मछलियों के मरने से लोग डरे हुए हैं। इस समस्या से निजात दिलाने के लिए तमसा के तटवर्ती गांवों के लोगों ने प्रशासन से पानी प्रदूषित कराने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की गुहार लगायी है।

लोगों का कहना है कि अगर नदी को प्रदूषित करने वाले कारकों पर नजर नहीं रखी गयी तो इस गर्मी में जीव-जन्तुओं और तटवर्ती गांवों के लोगों को परेशानी से जूझना पड़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तमसा में मछलियों के मरने का क्रम जारी