DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नौ महीने में मात्र 45 फीसदी ही राशि खर्च

शिक्षा विभाग बजट की राशि खर्च करने में फिसड्डी साबित हो रहा है। नौ महीने में मात्र 45 फीसदी राशि ही खर्च हो पायी है। सभी जिलों से प्राप्त रिपोर्ट के मंथन के बाद अधिकारियों का माथा ठनकने लगा है। विभाग को अंतिम तीन महीने में 55 फीसदी राशि खर्च करना होगा। आधा दर्जन से ज्यादा जिले में खर्च का यह आंकड़ा 40 फीसदी से भी नीचे है।ड्ढr सर्व शिक्षा अभियान के मद में 1561.42 करोड़, कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के लिए 72.05 करोड़ और राष्ट्रीय बालिका कार्यक्रम के लिए 3रोड़ की राशि स्वीकृत की गयी है। इसके एवज में विभाग अब तक सर्व शिक्षा अभियान में मात्र 725.53 करोड़, कस्तूरबा गांधी में 21.30 करोड़ और बालिका कार्यक्रम के लिए आबंटित राशि में से 20.12 करोड़ रुपये ही खर्च कर पाया है।ड्ढr शिक्षा सचिव रविशंकर वर्मा ने इसे गंभीरता से लिया है। सभी जिलों को काम में तेजी लाने का निर्देश भी दिया है। जिन जिलों में खर्च का प्रतिशत काफी नीचे हैं, वहां के डीएसइ का सख्त हिदायत दी गयी है। आरडीडीइ को इसकी मॉनिटरिंग का जिम्मा मिला है। भवन निर्माण से संबंधित सभी काम 15 फरवरी तक पूरा करने को कहा गया है।जिलाखर्चड्ढr साहेबगंज23 प्रतिशतड्ढr लातेहार35 प्रतिशतड्ढr सिमडेगा30 प्रतिशतड्ढr चतरा35 प्रतिशतड्ढr रामगढ़31 प्रतिशतड्ढr हाारीबाग40 प्रतिशत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नौ महीने में मात्र 45 फीसदी ही राशि खर्च