अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाहुबलियों के लिए सभी के दरवाचो खुले

ारा गौर कीािए। रमाकांत यादव कभी भाापा के लिए अपराधी थे। अब वह पूर्वी उत्तर प्रदेश में हिन्दुत्व की धुरी बन गए हैं। अरुण शंकर शुक्ला उर्फ अन्ना कभी सपा की आँखों के तार थे लेकिन अब वह सपा की नार में अपराधी और बसपा के दुलार हैं। हत्या के मामले में आाीवन कारावास की साा पाए विाय सिंह पहले कभी भाापाइयों के मददगार बन गए थे। फिर वह मुलायम सिंह यादव के खासम-खास हुए। अब वह बसपा में हैं। मुख्तार अंसारी तो सपा और बसपा मेंोिसकी भी सरकार आती है उसी के प्रिय होोाते हैं।ड्ढr ये तो कुछ उदाहरण भर हैं। उत्तर प्रदेश के कई बड़े माफिया और बाहुबली अब राानीतिक दलों की कृपा पर नहीं है। वे अपना राानीतिक एोंडा स्वयं तय कर रहे हैं। अब तक कोई भी दीवार इन अपराधियों को रोक नहीं सकी है। शेखर तिवारी इस मैदान के नए रंगरूट हैं। लोकसभा चुनाव पास आ रहे हैं और अपराधी अपनी सुविधानुसार राानीतिक दलों को तलाश रहे हैं। वह स्वयं तय कर रहे हैं कि उन्हें किस दल मेंोाना है। उनके लिए तो सभी दलों के दरवाो खुले हैं। पिछली विधानसभा ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया था कि प्रदेश में राानीति का अपराधीकरण खत्म कर दियाोाएगा। सभी दलों के नेताओं ने सदन में कसमें खाई थीं कि वह अपराधियों को टिकट नहीं देंगे। यह कसमें विधानसभा चुनाव में टूट गईं। अब रही सही कसर लोकसभा चुनाव में पूरी होोाएगी।ड्ढr एक सव्रेक्षण से पता चला है कि प्रदेश विधानसभा में 160 ऐसे विधायक हैंोिन पर आपराधिक मुकदमे चल रहे हैं। इन बाहुबलियों कीोरा चतुराई देखिए! भाापा के वरिष्ठ नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी हत्या कांड के आरोपित विाय सिंह ने अपनी गोटें भाापा में ही फिट कर ली थीं।ोब मुलायम सरकार बनी तो वह सपा में शामिल हो गए। सपा के टिकट पर चुनाव लड़े औरोीते। प्रदेश में मायावती सरकार बनी तो उनका मन बदला और वह विधानसभा से इस्तीफा देकर बसपाई हो गए। एक सप्ताह के अंदर उन्हें यह कहकर बसपा ने निकाल दिया कि वह तो अपराधी हैं। वही विाय सिंह अब बसपा में फिर वापस हो चुके हैं। फूलपुर के सांसद अतीक अहमद सपा के टिकट परोीते थे। अब सपा की सरकार नहीं हैं इसलिए सपा से बगावत किए हुए हैं। सूत्रों के अनुसार बड़ी संख्या में अपराधी लोकसभा पहुँचने कीोुगत लगा रहे हैं। ड्ड

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाहुबलियों के लिए सभी के दरवाचो खुले