DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधायक दल की नेता चुनी गईं ममता

विधायक दल की नेता चुनी गईं ममता

ममता बनर्जी को रविवार को औपचारिक रूप से तृणमूल कांग्रेस विधायक दल का नेता चुना गया। नेता चुने जाने के बाद ममता ने कहा कि चुनाव पूर्व सहयोगी कांग्रेस उनके छोटे मंत्रिमंडल में शामिल होगी।

पश्चिम बंगाल में 34 वर्षों के वाम शासन का अंत करते हुए दो दिनों पहले तीन चौथाई बहुमत से जीतने वाली 56 वर्षीय बनर्जी को सुब्रत बनर्जी ने टीसीएलपी नेता बनने का प्रस्ताव दिया। उनके चुनाव की औपचारिकता दक्षिण कोलकाता के महाराष्ट्र निवास हॉल में पूरी हुई जहां तृणमूल कांग्रेस के सभी 184 नवनिर्वाचित विधायक मौजूद थे।

बैठक को संबोधित करते हुए बनर्जी ने कहा कि वह खुश हैं कि कांग्रेस ने तृणमूल के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल को समर्थन देने का पत्र राज्यपाल एमके नारायणन को सौंपा है। उन्होंने कहा कि हम राज्यपाल को भी पत्र (समर्थकों की सूची) सौंपेंगे। उन्होंने कहा कि उनके मंत्रिमंडल का आकार छोटा होगा और कांग्रेस एवं एसयूसीआई इसका हिस्सा होंगे।

ममता ने कहा कि एक सीट जीतने वाले एसयूसीआई से भी मंत्रिमंडल में शामिल होने का आग्रह किया गया है। उन्होंने कहा कि एसयूसीआई ने कहा कि वह इस बारे में उन्हें बाद में बताएगा। पार्था चटर्जी को उपनेता और सोभनदेव चटोपाध्याय को मुख्य सचेतक चुना गया। ज्योतिप्रिय मलिक को कोषाध्यक्ष निर्वाचित किया गया।

कोलकाता से लोकसभा की सदस्य रेल मंत्री बनर्जी को छह महीने के अंदर राज्य विधानसभा की सदस्यता लेनी होगी। तृणमूल कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि वह दक्षिण कोलकाता विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ सकती हैं।

ममता बनर्जी ने अपनी जीत को मां, माटी और मानुष को समर्पित करते हुए कहा कि लोगों ने हमें सत्ता दिलाई है ताकि हम 34 वर्षों के वाम मोर्चे के कुशासन को खत्म कर सकें और हमारी यह प्रमुख जिम्मेदारी है कि हम जनमत का आदर करें, जनादेश का सम्मान करें और अपने वादों को पूरा करें।

उन्होंने कहा कि यह बड़ी चुनावी जीत, आजादी की दूसरी लड़ाई की जीत उन लोगों के कारण संभव हुआ है जो हमें प्यार करते हैं, हमारा समर्थन करते हैं और हमारा सहयोग करते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी की विजय रैली ब्रिगेड परेड ग्राउंड में 27 जुलाई को होगी।

उन्होंने कहा कि वह पार्टी के शहीदों को अश्रुपूर्ण नेत्रों से याद करती हैं। ममता ने कहा कि मैं सिंगुर, नंदीग्राम, नेताई, मोंगालकोट, चमकईटोला के संघर्षरत लोगों का धन्यवाद करती हूं जिन्होंने लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए लड़ाई की। बनर्जी ने कहा कि इन वर्षों में माकपा के हाथों शहीद हुए लोगों की याद में राज्य में छोटा शहीदी स्मारक बनाया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विधायक दल की नेता चुनी गईं ममता