DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्विटर से जुड़ा आतंकी फैक्ट्री तालिबान

ट्विटर से जुड़ा आतंकी फैक्ट्री तालिबान

अफगानिस्तान के तालिबान शासक ने कभी टेलीविजन, संगीत और सिनेमा पर पाबंदी लगाई थी, लेकिन अब तालिबान चरमपंथी अपना संदेश फैलाने के लिए माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट टि्वटर का सहारा ले रहे हैं।

चरमपंथियों ने बीते 12 मई को पहला ट्वीट किया। अंग्रेजी भाषा में किए गए इस ट्वीट में तालिबान ने पुलिस की एक कार्रवाई का हवाला देते हुए कहा कि दुश्मनों ने खाक-ए-सफीद में हमला किया है। टि्वटर का सहारा लेकर तालिबान ने साबित किया है कि उन्हें अपना दुष्प्रचार फैलाने के लिए अत्याधुनिक तकनीक के इस्तेमाल से परहेज नहीं है।

अफगानिस्तान में तालिबान ने वर्ष 1996 से 2001 तक शासन किया। इस दौरान यहां लगभग सभी इलेक्ट्रॉनिक सामान पर पाबंदी लगी रही। तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि हम छह महीने पहले टि्वटर के साथ जुड़े थे। हमने ऐसा किया क्योंकि यह वेबसाइट बहुत लोकप्रिय है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ट्विटर से जुड़ा तालिबान