DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यह रहे शेयरों में निवेश के आसान नुस्खे

शेयर बाजार में सीधे निवेश कोई आसान काम नहीं है, लेकिन यह इतना भी कठिन नहीं है कि इसे समझा न जा सके। बस जरूरत है इसके फायदे जानके के साथ-साथ इसके नुकसान को जानें, कुछ बेसिक नियमों का पालन करें और अपनी समझ पर भरोसा रखें। एक बात जो ज्यादा समझने की है वह है अपने दोस्तों और ब्रोकरों पर जानकारी के लिए भरोसा करने से अच्छा है कि कुछ जानकारी कंपनी के बारे में खुद ही जुटा ली जाए।

अपने आसपास से करें शुरुआत
निवेश से अपने आसपास नजर दौड़ाएं और स्टॉक खोजने का नजरिया रखें। इसमें भी सबसे अच्छी जगह अपना घर ही है। अगर इससे भी बात समझ न आए तो अपनी साप्ताहिक खरीद की लिस्ट पर नजर डाल सकते हैं। बात शायद अभी समझ नहीं आई है, इस लिए एक क्लू।

पेराशूट ऑयल या सफोला खाद्य तेल पर नजर डालें। इनका इस्तेमाल रोजमर्रा की जरूरत है। यानी मंदी आए या कुछ और इनका इस्तेमाल खत्म होने वाला नहीं। यह रही इन उत्पादों की उपयोगिता अब जानिए कि यह उत्पाद बनता कौन है। वह कंपनी है मैरिको। इसका मतलब हुआ कि मेरिको निवेश लायक कंपनी हो सकती है। 

अब जरूरत है कि इस कंपनी के शेयरभाव पर नजर डालें अगर यह अपने उच्चतम  स्तर के आसपास चल रहा है तो थोड़ा रुकें और सोचें फिर निवेश का फैसला करें। अब घर के बिजली के बोर्ड पर नजर डालें। ज्यादातर जगह हैवेल्स नजर या ऐसी ही कुछ कंपनियां नजर आएंगी। इसी तरह कुछ भी जोड़ना हो तो फेविकोल या फेविस्टिक सहित एम-सील नजर आएगी। पता है यह उत्पाद कौन सी कंपनी बनाती है, यह है पिड्डीलाइट इंडस्ट्रीज।

यह तो रहे कुछ उदाहरण, लेकिन अगर आप इस नजरिए से देखना शुरू करेंगे तो रोज कोई न कोई काम की कंपनी खोज ही लेंगे। अगर घर बनाने का मामला ही ले लें तो सीमेंट से लेकर बाथरूम फिटिंग सहित कई उत्पाद बनाने वाली कंपनियां आप निवेश लायक पा सकते हैं। जैसे श्रीसीमेंट को ही ले लें। इस कंपनी ने पिछले पांच साल में लगातार 32 प्रतिशत का रिटर्न दिया है। हालांकि इस बीच निफ्टी का रिटर्न करीब 11 प्रतिशत का ही रहा है। कुछ और दूर जाने की जरूरत नहीं है अगर अगली कंपनी खोलने में परेशानी हो रही है तो अपने मोबाइल फोन सर्विस प्रदाता पर नजर डालें। एयरटेल उनमें से एक कंपनी हो सकती है। देश में अभी भी मोबाइल का बाजार बढ़ रहा है, ऐसे में अच्छी कंपनियों पर दांव लगाया जा सकता है।

कुछ अपनी रिसर्च भी
अगर कुछ शेयरों को छांट लिया हो तो फिर उन पर कुछ रिसर्च भी करनी चाहिए। सबसे पहले देखें कि कंपनी का बिक्री और मुनाफा पिछले कुछ सालों में क्या है। यह आंकड़े एनएसई या बीएसई की वेबसाइट पर आसानी से देखे जा सकते हैं। अगर इन आंकड़ों से आप संतुष्ट हैं तो आगे की रिसर्च शुरू की जा सकती है।

ऋण
कंपनी पर अगर कर्ज होगा तो उसे उसका ब्याज चुकाना पड़ रहा होगा। यह कंपनी के मुनाफ पर असर डालती है। इस बात को इसी तरह से समझा जा सकता है कि घर का लोन जरूरी है लेकिन यह लोगों के घरों के बजट को सीमित कर देता है।

रिटर्न ऑन इक्विटी
इस बात को जानने के लिए कंपनी के शुद्ध मुनाफे में शेयर धारकों की संख्या को भार देकर निकाला जा सकता है। इससे पता चलता है कि कोई कंपनी शेयर धारकों के पैसे से कितना कमा रही है।

नगदी
वैसे ज्यादा नगदी कंपनियों के पास अच्छी नहीं मानी जाती है, लेकिन इसका होना यह भी बताता है कि कंपनी कितनी मजबूत है। क्योंकि अगर अगर कोई आकस्मिक जरूरत आएगी तो कंपनी बेहतर तरीके से निपट सकेगी।

प्राइस अर्निग
प्राइस टू अर्निग रेशियो किसी भी कंपनी की मजबूती जानने का अच्छा तरीका है। इसको जानने के लिए किसी एक इंडस्ट्री की कंपनियों के बीच तुलना करने में आसानी होती है। अगर एक ही सेक्टर की कंपनी में किसी का पीई रेशियो दूसरे ज्यादा है तो उसे अच्छा माना जा सकता है।

सबसे अंत में
शेयर बाजार में निवेश लम्बे समय का निवेश होता है। आज निवेश किया और कल फायदे की सोचने लगे तो सिरदर्द ही बढ़ेगा। जरूरी है कि पूरी तरह से विचार करने के बाद ही निवेश करें फिर उसे बढ़ने के लिए कुछ समय दें।

(दिल्ली संस्करण)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:यह रहे शेयरों में निवेश के आसान नुस्खे