DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ड्रीम गर्ल जैसी है अनुष्का: रणवीर

ड्रीम गर्ल जैसी है अनुष्का: रणवीर

यशराज की दूसरी फिल्म मिलने पर भी रणवीर सिंह खुद को लकी नहीं मानते। वह कहते हैं कि करार के अनुसार ‘लेडीज वर्सेज रिक्की बहल’ यशराज के साथ उनकी दूसरी फिल्म है, जिसमें उनके साथ अनुष्का शर्मा हैं। एक बड़ी हिट के बाद रणवीर काफी तेज रफ्तार में दिख रहे हैं। अनुष्का को वह अपनी ड्रीमगर्ल कह रहे हैं। आखिर क्या वजह है कि अचानक रणवीर इतने पॉपुलर और प्लेब्वाय किस्म के हो गये हैं?

अपनी पहली फिल्म 'बैड बाजा बारात' से स्टार बने रणवीर सिंह की खुशनसीबी है कि यशराज फिल्म्स जैसा बड़ा बैनर भी उन्हें अपने लिए लकी मानता है। तभी तो यशराज फिल्म्स ने उन्हे अपने बैनर की नई फिल्म ‘लेडीज वर्सेज रिक्की बहल’ में फिर से हीरो बना दिया है, जिसमें उनके साथ अनुष्का शर्मा के अलावा प्रियंका चोपड़ा की कजिन परिणीति चोपड़ा तथा दीपानिता शर्मा भी हैं। मगर खुद रणवीर सिंह कहते हैं- ‘मैं लकी वाली बात पर यकीन नहीं करता। जब यशराज फिल्म्स ने मुझे फिल्म ‘बैंड बाजा बारात’ में ब्रेक दिया था, उसी वक्त उन्होंने मेरे साथ तीन फिल्मों का एग्रीमेंट भी किया था। तो उसी एग्रीमेंट के तहत ‘लेडीज वर्सेस रिक्की बहल’ यशराज फिल्म्स के साथ मेरी दूसरी फिल्म है।’

पहली फिल्म, लगा जैकपॉट

रणवीर सिंह कुछ भी कहें, मगर एक बात साफ है कि एक तरफ उन्हें इस फिल्म से सक्सेस मिला तो दूसरी ओर तमाम अवॉर्ड्स भी। इस पर वह कहते हैं- ‘सच कहूं तो मेरा सपना था कि बॉलीवुड में कलाकार के रूप में मेरी अपनी एक अलग पहचान बने, वह पहचान मुझे इस फिल्म से मिल गयी। जहां तक अवॉर्ड का सवाल है तो अवॉर्ड मिलने पर कलाकार का दिमाग थोड़े समय के लिए ऊंचाई पर पहुंच जाता है, पर मेरे पैर जमीन पर ही टिके हुए हैं। मुझे इस बात का एहसास है कि आगे बढ़ने के लिए मुझे निरंतर कठिन मेहनत करते हुए बार-बार अपनी प्रतिभा को निखारते रहना होगा।’ वह आगे कहते है-‘मुझे पहला अवॉर्ड स्क्रीन अवॉर्ड मिला। मजेदार बात यह है कि मैं अपनी सह कलाकार अनुष्का शर्मा के साथ इस अवॉर्ड समारोह का संचालन कर रहा था। कुछ समय बाद दूसरे एंकर ने मेरी जगह संभाली, तो मैं अपनी वैनिटी में बैठकर आराम कर रहा था। तभी किसी ने आकर मुझसे कहा कि मुझे तुरंत स्टेज के पीछे जाना है, क्योंकि मुझे भी अवॉर्ड मिलने वाला है। मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि इस तरह का कोई अवॉर्ड मुझे मिल सकता है और तब स्टेज पर पहुंचते ही मेरी आंखों से आंसू बहने लगे थे।’

बहुत पापड़ बेले हैं

आज भले ही रणवीर सिंह एक चर्चित कलाकार बन  गए हों, पर उनके लिए यह राह आसान नहीं रही। वह बताते हैं- ‘यहां तक पहुचने के लिए मैंने काफी पापड़ बेले हैं। मुझे स्कूल से ही नाटक आदि में हिस्सा लेने का शौक रहा है। परफॉर्मिग आर्ट्स में शुरू से ही रुचि रही है। मेरी पृष्ठभूमि फिल्मों की नही है, इसलिए मुझे कई बार लगता था कि मुझे बॉलीवुड में ब्रेक मिलने से रहा, क्योंकि यहां फिल्मी बैकग्राउंड बहुत मायने रखती है। इसी वजह से इस क्षेत्र में आगे बढ़ने का मुझे कोई रास्ता समझ में नहीं आ रहा था। मैंने कुछ विज्ञापन कंपनियों के लिए कॉपी राइटर का भी काम किया। मैंने इंग्लैंड में इंडियाना यूनिवर्सिटी से टेलीकॉम एंड कम्युनीकेशंस व थिएटर, ड्रामा का कोर्स भी किया। वहां से आने के बाद मुंबई में स्ट्रगल करना शुरू किया। शाद अली के साथ बतौर सहायक काम किया। कैमरे के पीछे क्या-क्या होता है, यह मुझे जानना था। अपना पोर्टफोलियो लेकर एजेंटों व को-आर्डिनिटेरों से मिलता रहा। दो साल तक स्ट्रगल करता रहा। तब कहीं जाकर यशराज फिल्स की फिल्म बैंड बाजा बारात मिली थी। इस फिल्म की शूटिंग के दौरान मैंने काफी मेहनत की और इस फिल्म के प्रदर्शन के साथ ही मेरे लिए बहुत कुछ बदल गया।’

दिल्ली का प्लेबॉय है रिक्की

फिल्म ‘लेडीज वर्सेज रिक्की बहल’ के किरदार को लेकर क्या कहेंगे? इस पर रणवीर सिंह कहते हैं- ‘इस फिल्म को लेकर अभी मैं ज्यादा चर्चा नहीं कर सकता। इस फिल्म की कहानी आदित्य चोपड़ा ने लिखी है और कहानी की पृष्ठभूमि में दिल्ली है। हमने दिल्ली के कई इलाकों में इस फिल्म की शूटिंग भी की है। फिल्म में अनुष्का के अलावा परिणिता और दीपनिता भी हैं। रिक्की बहल एक चोर किस्म का इंसान है, जो कि लड़कियों को फंसाता रहता है। मतलब प्लेब्वाय किस्म का बंदा। पर एक दिन उसे अपनी हमसफर मिल जाती है।’ वैसे आपको बता दूं कि यशराज फिल्म्स के साथ मेरा तीन फिल्मों का एग्रीमेंट जरूर है, पर मुझे दूसरे निर्माता-निर्देशकों के साथ काम करने की स्वतंत्रता भी है।’

चक्कर चल रहा है

अनुष्का के साथ अपने रिश्तों की चर्चा करते हुए रणवीर सिंह कहते हैं- ‘वह मेरी सह कलाकार और अच्छी दोस्त हैं। वह एक बेहतरीन एक्ट्रेस हैं। वह बहुत ही ज्यादा कॉन्फिडेंट कलाकार हैं। नेचुरल अभिनय करती हैं। बहुत ही डाउन टू अर्थ उनका स्वभाव है। मेरी ड्रीम गर्ल जैसी हैं अनुष्का।’ रणवीर सिंह हमेशा कॉमर्शियल सिनेमा करना चाहते हैं। वह कहते हैं- ‘मैं बचपन से ही फिल्म और टीवी देखने का शौकीन रहा हूं। मैंने हमेशा मेनस्ट्रीम सिनेमा ही देखा है, इसलिए मेनस्ट्रीम सिनेमा ही करना चाहूंगा। इस तरह के सिनेमा के ही दर्शक ज्यादा होते हैं। आर्ट फिल्मों की तरफ दर्शकों की रुचि कम होती है। पर आर्ट सिनेमा में हम अपनी मर्जी का काम कर सकते हैं।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ड्रीम गर्ल जैसी है अनुष्का: रणवीर