DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पार्टी हारी पर अच्युतानंदन हुए मजबूत

पार्टी हारी पर अच्युतानंदन हुए मजबूत

केरल में एलडीएफ के हाथों से सत्ता छीनने में कांग्रेस नीत यूडीएफ के कामयाब होने के बावजूद राज्य के निवर्तमान मुख्यमंत्री वीएस अच्चुतानंदन को इस चुनाव में मैन ऑफ मैच माना जा रहा है।

राज्य विधानसभा चुनाव के परिणामों के बाद अच्युतानंदन ने माकपा में अपनी स्थिति मजबूत कर ली है। उन्होंने 2009 के आम चुनाव और पिछले साल हुए स्थानीय निकाय के चुनाव में एलडीएफ के खोए हुए आधार को दोबारा हासिल करने में मदद की।

माकपा नेता अच्युतानंदन ने भ्रष्टाचार और सेक्स कांड जैसे मुद्दे को चुनाव एजेंडे में शामिल किया। उन्होंने काफी जोश के साथ पूरे राज्य में चुनाव प्रचार किया और यही एक मात्र वजह रही, जिसने एलडीएफ को 2009 के लोकसभा चुनाव में अपने खोए हुए आधार को वापस हासिल करने में मदद की।

इस प्रक्रिया में उन्हें महिला, युवा, मानवाधिकार कार्यकर्ता और पर्यावरण से जुड़े संगठनों सहित सभी तबके से समर्थन मिला। केरल में माकपा के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि एलडीएफ के उम्मीदवारों ने अच्युतानंदन के साथ तस्वीर वाली अपने पोस्टर चिपकाकर लोगों से वोट मांगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पार्टी हारी पर अच्युतानंदन हुए मजबूत