DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रागिनी एमएमएस

रागिनी एमएमएस

कहानी: उदय (राजेश कुमार यादव) रागिनी (कायनाज मोतीवाला) को डेट पर शहर से दूर सुनसान एक बंग्ले में लेकर जाता है। यहां उदय के एक दोस्त पंडित ने इनका सेक्स एमएमएस बनाने की पूरी व्यवस्था की हुई है, जिसके बारे में उदय को पता है। लेकिन सेक्स एमएमएस की शुरुआत होने से पहले ही कुछ पारलौकिक घटनाएं होनी शुरु हो जाती हैं। इसी बीच रागिनी के दो दोस्त पिया और विशाल भी वहां आ जाते हैं, जो उदय को नागवार गुजरता है। विशाल वहां घायल हो जाता है और वह पिया को लेकर भाग जाता है। एमएमएस बनाने के दौरान जब उदय रागिनी के दोनों हाथ बांध देता है तो उसे भी किसी के होने का अहसास होता है। बाद में रागिनी के बंधे हाथ ही उसके दुश्मन बन जाते हैं, क्योंकि उस हथकड़ी की चाबी कहीं खो जाती है और वो इस भुतहा घर में अकेली रह जाती है। 

निर्देशन: पवन कृपलानी की यह पहली फिल्म है, जिसकी शुरुआत उन्होंने ‘लव सेक्स और धोखा’ के स्टाइल में की है। हैंडीकैम फिल्म का अहम हिस्सा है। फिल्म के तीसरे चौथे सीन में ही उन्होंने डर की एंट्री इस तरह से कराई है कि एमएमएस बनता देखने की उत्सुकता के साथ कमरे में किसी के होने का अहसास डबल डोज का काम करता है। साउंड और सिनेमाटोग्राफी के प्रभाव से उन्होंने वाकई कई सीन्स ऐसे बनाए हैं कि डर धीरे से नहीं, बल्कि धमाके से दस्तक देता है। फिल्म की लंबाई उन्होंने काफी छोटी रखी है।

अभिनय: राजेश कुमार यादव, एकता कपूर की फिल्म ‘लव सेक्स और धोखा’ में भी थे, इसलिए इस फिल्म में अभिनय कैसा करना है, उन्हें अच्छे से पता था। कायनाज के साथ उनकी स्क्रीन कैमिस्ट्री देखने लायक है। कायनाज की अदाएं कामुक हैं।

गीत-संगीत: ये बैकग्राउंड म्युजिक का कमाल ही है, जो सॉफ्ट सीन्स में भी अचानक उछलने पर मजबूर कर देता है। ‘रात अकेली’ गीत फिल्म में नहीं है। बाकी गीत फिलर लगते हैं। 

क्या है खास: भरोसे में लेकर एमएमएस कैसे बनते हैं और ये एक कारोबार भी है, इसे कहानी के रूप में पेश करना और उसमें डर का इनपुट फिल्म को खास बना देता है।

क्या है बकवास: फिल्म का प्रचार एक सत्य घटना के रूप में किया गया है, लेकिन फिल्म एकदम से खत्म हो जाती है, जो समझ से परे है।  

पंचलाइन: एक निर्माता के रूप में एकता कपूर ने दूसरी बार ऐसी फिल्म बनाई है, जो अपना मुनाफा पहले ही तय कर चुकी है। शुरू में यह एक सॉफ्ट पॉर्न फिल्म लगती है, लेकिन धीरे-धीरे यह डर और सेक्स का परफेक्ट कॉम्बीनेशन बन कर उभरती है।

सितारे: राजेश कुमार यादव, कायनाज मोतीवाला आदि
निर्माता: एकता कपूर, शोभा कपूर आदि
निर्देशक: पवन कृपलानी
संगीत: समीर, फैजान, बप्पी लाहिड़ी, एंजिल
गीत: मजरूह, इंदीवर, एंजिल, विराग आदि 

अच्छी मूवी है। हॉरर देख कर मजा आ गया। दोबारा देखने का मन है।
शहजाद अनवर, बुद्ध विहार

स्पेशल इफेक्ट्स के चलते फिल्म डरावनी लगी। कई सीन देख कर चौंक गए।
मनोज अवस्थी, कालकाजी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रागिनी एमएमएस