DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेल मंत्रालय को मिलेगा अब फुलटाइम मंत्री

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष एवं रेलमंत्री ममता बनर्जी के पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनने से रेल मंत्रालय के अफसर भी फूले नहीं समा रहे। अधिकारी ममता को चुनाव में मिली भारी सफलता से नहीं बल्कि इस बात से खुश हैं कि मंत्रालय को पार्ट टाइम मंत्री से छुटकारा मिल गया। उन्हें उम्मीद है कि मंत्रालय को शायद अब ‘फुलटाइम रेलमंत्री’ मिल जाए। नए रेलमंत्री के पास रेलवे को विकास की पटरी पर दौड़ाने के लिए भरपूर वक्त होगा।

रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि ममता ने पश्चिम बंगाल को पिछले दो साल के कार्यकाल में 26 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का तोहफा दिया है। लेकिन अधिकांश परियोजनाओं का फीता ही काटा जा सका, क्योंकि दीदी ने इनको निजी भागीदारी मोड में पूरा करने का लक्ष्य रखा था। 

तमाम प्रयासों के बावजूद घरेलू निवेशक इस तरफ आकर्षित नहीं हुए। उन्होंने बताया कि रेलवे बोर्ड में सदस्य यातायात, वित्त आयुक्त सहित विभिन्न रेलवे जोन व उत्पादन इकाइयों के आधा दर्जन से अधिक महाप्रबंधकों के पद महीनों से रिक्त हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रेल मंत्रालय को मिलेगा अब फुलटाइम मंत्री