DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जामिया में बनेंगे स्कूली छात्राओं के लिए हॉस्टल

जामिया मिल्लिया इस्लामिया से स्कूली शिक्षा पाने वाली लड़कियों को रहने के लिए अब इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। आठवीं के बाद स्कूली शिक्षा के लिए जामिया मिलिया इस्लामिया में आने वाली दिल्ली से बाहर की लड़कियों के लिए नए हॉस्टल बनाए जाएंगे।

इसको लेकर विश्वविद्यालय स्तर पर तेजी से पहल की जा रही है। हॉस्टल बनाने के साथ ही जामिया मिल्लिया इस्लामिया में स्कूली छात्रों के लिए सात हॉस्टल हो जाएंगे। दरअसल, दूसरे राज्यों से आने वाली लड़कियों को हॉस्टल नहीं मिलने के चलते कैंपस के बाहर रहना पड़ता है।

फिलहाल एक भी नहीं

जामिया मिल्लिया इस्लामिया स्कूल के निदेशक प्रो. मुजतबा ने बताया कि स्कूली शिक्षा पाने वाले छात्रों के लिए तो छह हॉस्टल हैं। यूपी, पश्चिम बंगाल, बिहार, जम्मू-कश्मीर से भारी संख्या में छात्राएं दाखिला ले रही हैं। उन्होंने बताया कि बाहर से आने वाली इन लड़कियों को बाहर निजी हॉस्टल में रहकर पढ़ाई पूरी करनी होती है। इन दिक्कतों को देखते हुए कैंपस में स्कूली छात्राओं के लिए हॉस्टल बनाए जाएंगे। हॉस्टल में 100 की संख्या में छात्राओं को रखा जाएगा।

उन्होंने बताया कि सच्चर कमेटी की रिपोर्ट भी कहा गया है कि अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियां अभी भी पीछे हैं। इन रिपोर्ट को भी ध्यान में रखकर हॉस्टल बनाने की पहल की गई है। हालांकि उन्होंने बताया कि दाखिला लेनी वाली कुछ छात्राओं को यूनिवर्सिटी के छात्राओं के साथ ठहराने की व्यवस्था की गई है।

गौरतलब है कि प्रत्येक साल बाहर से स्कूली शिक्षा लेने वाली छात्राओं की संख्या में वृद्धि हो रही है। स्कूली शिक्षा ले रही करीब दो सौ लड़कियों को बाहर रहना पड़ता है। जबकि छह हॉस्टल में करीब तीन सौ छात्र रहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जामिया में बनेंगे स्कूली छात्राओं के लिए हॉस्टल