DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेल मंत्री का बेटा भी ट्रायल में

खेल मंत्री अयोध्या प्रसाद पाल और एक सीनियर आईएएस का पुत्र यूपी अण्डर-19 टीम के लिए कमला क्लब में चल रहे ट्रायल में मुख्य आकर्षण का केन्द्र है। ये दोनों बल्लेबाज हैं और डिस्ट्रिक्ट और मण्डल स्तर पर हुए ट्रायल को क्वालीफाई करके ही यहाँ तक पहुँचे हैं। इनको चेस्ट नं. 369 और 370 आवंटित किया गया है। दोनों ने ही पहले दौर की बाधा भी पार कर ली है।

दूसरे दिन के बाद ट्रायल में शामिल 675 में से कुल 275 खिलाड़ी अगले दौर के लिए मैदान में रह गए हैं, जबकि 80 खिलाड़ियों को अभी पहले दौर में ही आजमाया जाना है। इन दोनों की दावेदारी से एक बार फिर ट्रायल में भाग ले रहे खिलाड़ियों के बीच सुगबुगाहट शुरू हो गई है। एक चयनकर्ता ने कहा कि मैदान पर सभी खिलाड़ी एक बराबर हैं। अभी तक ये खिलाड़ी सामान्य प्रक्रिया के तहत ही ट्रायल दे रहे हैं।

ट्रायल के बाद 60 खिलाड़ियों का चयन किया जाएगा। इन खिलाड़ियों से चार टीमें बनाकर आपस में मुकाबले करवाए जाएँगे। यदि कोई भी जोड़-तोड़ करके किसी तरह अंतिम 60 खिलाड़ियों में जगह बनाने में सफल भी हो जाता है, तो संभावित 30-35 खिलाड़ियों में उन्हें तभी जगह मिल सकेगी, जब वह इन मैचों में प्रभावशाली प्रदर्शन करेंगे।

इस चयनकर्ता ने कई वीआईपी खिलाड़ियों के ट्रायल में उतरने पर किसी तरह के दबाव में होने वे इनकार किया और कहा कि हम विनिंग टीम खड़ी करने के लिए किसी दबाव को नहीं मानेंगे लेकिन यदि सिफारिशी खिलाड़ी ट्रायल के बाद सलेक्शन मैचों भी शानदार प्रदर्शन करते हैं, तो उनकी उपेक्षा भी नहीं की जाएगी। इस बीच बुधवार का दिन ट्रायल दे रहे खिलाड़ियों को शाम को आई हल्की आंधी से दस मिनट के लिए ट्रायल रोकना पड़ा। लेकिन तेज हवाओं ने दिन भर की गर्मी से थोड़ी राहत भी दी। सुबह ट्रायल साढ़े सात बजे से शुरू हो गया। सबसे पहले उन खिलाड़ियों को मौका मिला, जो मंगलवार को 250 खिलाड़ियों के ट्रायल में छूट गए थे।

चीफ सलेक्टर शशिकांत खंडकर ने बताया कि दूसरे दिन कुल 325 खिलाड़ियों की आजमाइश हुई, जिसमें से 200 बाहर हो गए। जो बचें हैं उनमें 42 बल्लेबाज,  32 मीडियम पेसर, 24 स्पिनर्स और आठ विकेट कीपर शामिल हैं। श्री खंडकर ने बताया कि इस बार सलेक्टर्स को जो सूची सौंपी गई है, उसमें कौन खिलाड़ी किस मंडल या शहर का है, यह जानकारी नहीं दी गई है। इससे  खिलाड़ियों के चेस्ट नम्बर ही उन्हें सौंपे गए हैं, ताकि सलेक्शन को और साफ सुथरा बनाया जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खेल मंत्री का बेटा भी ट्रायल में