DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंगाई में और कमी आएगी: प्रणव

वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने खाद्य मुद्रास्फीति में आई गिरावट का स्वागत करते हुए कहा कि आने वाले सप्ताहों में इसमें और कमी आएगी।
 
गत 30 अप्रैल को समाप्त सप्ताह में थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित खाद्य मुद्रास्फीति के इससे पिछले सप्ताह में 8.53 प्रतिशत से घटकर 7.70 प्रतिशत पर आने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मुखर्जी ने कहा कि हालांकि गैर खाद्य पदार्थों की ऊंची कीमत तेजी चिंता का विषय है।
 
उन्होंने कहा कि गैर खाद्य पदार्थों की कीमतों में तेजी से विनिर्माण क्षेत्र में लागत बढने से मुद्रास्फीति का दबाव बनेगा। उन्होंने कहा कि खाद्य मुद्रास्फीति में कमी आने लगी है लेकिन थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति की ऊंची दर अभी भी चिंता का विषय है।
 
वित्त मंत्री ने कहा कि महंगाई को नियंत्रित करने के लिए हाल में किए गए मौद्रिक उपायों से भी मद्द मिलनी चाहिए। 


आलोच्य अवधि में मछली की कीमतों में पांच प्रतिशत, अंडा में तीन प्रतिशत, जौ में दो प्रतिशत, रागि समुद्री मछली बाजरा और मसालों की कीमतों में एक एक प्रतिशत की वृद्धि दर्ज किए जाने से खाद्य पदार्थों के समूह के सूचकांक में 0.1 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

हालांकि इस समूह में शामिल चिकेन की कीमतों में चार प्रतिशत चान और मसूर की कीमतों में दो दो प्रतिशत चना मूंग अरहर और उडद की कीमतों में एक एक प्रतिशत की कमी आई है।

फूलों की कीमतों में सात प्रतिशत तिल में तीन प्रतिशत ग्वार बीज और सरसों की दो दो प्रतिशत तथा नारियल और कच्चे जूट की कीमतों में एक एक प्रतिशत की वृद्धि होने से गैर खाद्य पदार्थों के समूह के सूचकांक में 0.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।

हालांकि सूरजमुखी की कीमतों में दो प्रतिशत कच्चा रबड कलौंजी और चारा की कीमतों में एक एक प्रतिशत की कमी आई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महंगाई में और कमी आएगी: प्रणव