DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धीमी पड़ी औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार

धीमी पड़ी औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार

विनिर्माण एवं खनन क्षेत्र के कमजोर प्रदर्शन से समाप्त वित्त वर्ष 2010-11 में औद्योगिक उत्पादन की गति एक साल पहले के मुकाबले कुछ धीमी पड़कर 7.8 प्रतिशत रह गई। इससे पिछले वर्ष 2009-10 में औद्योगिक उत्पादन वृद्धि 10.5 प्रतिशत रही थी।

औद्योगिक उत्पादन के गुरुवार को जारी आंकड़ों के अनुसार मार्च 2011 में औद्योगिक उत्पादन वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रही है, एक साल पहले इसी माह में यह 15.5 प्रतिशत रही थी। हालांकि, एक महीना पहले की तुलना में इसमें सुधार आया है। फरवरी 2011 में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि 3.6 प्रतिशत (अनंतिम आंकड़े) रही थी।

वर्ष के दौरान औद्योगिक उत्पादन में करीब 80 फीसदी की हिस्सेदारी रखने वाले विनिर्माण क्षेत्र की सालाना वृद्धि दर घटकर 8.1 प्रतिशत रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 11 प्रतिशत रही थी। मार्च 2011 में भी इस क्षेत्र की उत्पादन वृद्धि कमजोर रही और यह घटकर 7.9 प्रतिशत पर आ गई, जो पिछले साल के इसी माह में 16.4 प्रतिशत थी।

इसी प्रकार खनन क्षेत्र की वृद्धि दर भी वित्त वर्ष 2010-11 में घटकर 5.9 प्रतिशत पर आ गई, जो पिछले वित्तवर्ष में 9.9 प्रतिशत थी। मार्च 2011 में इस क्षेत्र का प्रदर्शन काफी खराब रहा। मार्च में क्षेत्र में मात्र 0.2 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई, जो पिछले साल इसी माह में 12.3 प्रतिशत रही थी।

वित्त वर्ष 2010-11 में पूंजीगत सामानों के क्षेत्र में सबसे जयादा असर रहा है। वर्ष के दौरान इस क्षेत्र की वृद्धि 9.3 प्रतिशत रही, जबकि एक साल पहले यह 20.9 रही प्रतिशत थी। मार्च 2011 में पूंजीगत सामान की उत्पादन वृद्धि 12.9 प्रतिशत रही जबकि पिछले साल मार्च में यह 36 प्रतिशत रही थी।

वित्तवर्ष 2010-11 में बिजली क्षेत्र की उत्पादन वृद्धि दर 5.6 प्रतिशत रही, जो पिछले वित्तवर्ष में छह प्रतिशत थी। मार्च महीने में विद्युत उत्पादन में 7.2 प्रतिशत वृद्धि रही जबकि पिछले वर्ष मार्च में क्षेत्र की वृद्धि दर 8.3 प्रतिशत रही थी। कुल मिलाकर औद्योगिक उत्पादन में शामिल 17 में से 13 क्षेत्रों का प्रदर्शन मार्च 2011 में सकारात्मक रहा।

इसी प्रकार त्वरित उपभोग वाले उपभोक्ता सामान की उत्पादन वृद्धि दर वित्तवर्ष 2010-11 में 2.2 प्रतिशत रही, जो कि पिछले वित्तवर्ष में 0.4 प्रतिशत पर थी। टिकाऊ उपभोक्ता सामान की वृद्धि दर सालाना आधार पर 20.9 प्रतिशत रही, जो इससे पिछले वित्त वर्ष 2009-10 में 24.6 प्रतिशत थी।

कुल मिलाकर उपभोक्ता सामानों की उत्पादन वृद्धि दर वित्त वर्ष 2010-11 में बढ़कर 7.5 प्रतिशत रही जो कि इससे पिछले वर्ष 6.2 प्रतिशत रही थी। वित्त वर्ष 2010-11 में मध्यवर्ती सामानों की उत्पादन वृद्धि 8.8 प्रतिशत रही, जो इससे पिछले वर्ष 2009-10 में 13.6 प्रतिशत रही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:धीमी पड़ी औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार