DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शांति-व्यवस्था बनाए रखने के लिए राहुल को गिरफ्तार किया

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने बुधवार को यहां स्पष्ट किया कि कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी सहित कांग्रेस जनों की गिरफ्तारी सीआरपीसी की धारा 151 के तहत इसलिये की गई ताकि मौके का फायदा उठाकर अपराधी अथवा असामाजिक तत्व शांति व्यवस्था को बिगाड़ने का प्रयास न कर सकें।

प्रदेश के कैबिनेट सचिव सशांक शेखर सिंह ने मुख्यमंत्री की तरफ से स्थिति स्पष्ट करते हुए बताया कि भट्टा पारसौल गांव में किसी प्रकार का न तो कोई अशांति थी और न ही भूमि अधिग्रहण को लेकर किसी प्रकार का कोई विवाद था, क्योंकि करार नियमावली के तहत काफी पहले ही जमीन का अधिग्रहण किया जा चुका था।
    
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया है कि बुधवार की कार्यवाही माहौल को उकसाने के लिए की गई थी और इसमें किसानों का कोई हित या लाभ का कोई कारण नहीं था बुधवार की घटना सिर्फ राजनीतिक दलों द्वारा अपनी रोटियां सेकने का भरपूर प्रयास किया गया था।

उन्होंने बताया कि राहुल गांधी के साथ गिरफ्तार किए गए कांग्रेस महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी दिग्विजय सिंह एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डा. रीता बहुगुणा जोशी सहित कुछ लोगों को प्रदेश की सीमा के बाहर छोड़ दिया जायेगा।

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट सचिव सिंह ने कहा कि भट्टा परसौला में सुबह से निषेधाज्ञा लागू नहीं थी क्योंकि यह प्रतिबंधात्मक आदेश 10 मई तक के लिए प्रभावी था। सिंह ने कहा कि कांग्रेस नेताओं द्वारा गांव में रैली करने की राज्य प्रशासन से अनुमति मांगे जाने के बाद निषेधाज्ञा को क्षेत्र में फिर से लागू कर दिया गया।

कांग्रेस ने इस गिरफ्तारी के लिए तुरंत मायावती सरकार को आड़े हाथ लिया। कांग्रेस महासचिव जर्नादन द्विवेदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में क्रूरतम शासन देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को गिरफ्तार करने की उत्तर प्रदेश सरकार की कार्रवाई यह साबित करती है कि मायावती (सरकार) खुद की कब्र खोद रही हैं। द्विवेदी ने कहा कि अगर सरकार में न्याय की जरा सी भी भावना बची है तो राज्य को कम से कम न्यायिक जांच के तुरंत आदेश देने चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शांति-व्यवस्था बनाए रखने के लिए राहुल को गिरफ्तार किया