DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है हास्य योग

अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है हास्य योग

मनुष्य की आत्मा की सन्तुष्टि, शारीरिक स्वास्थ्य और बुद्धि की स्थिरता नापने का एक ही मापदंड है, वह है चेहरे पर खिली प्रसन्नता। विशेषज्ञों ने माना है कि हंसी हार्ट अटैक आदि दबावजनित बीमारियों के खतरे से मुक्त रखती है। योगाचार्य और हमारे ऋषि-मुनियों ने योग में हास्य योग को एक अलग पहचान दी है। हास्य योग के फायदे योग गुरु सुनील सिंह बता रहे हैं।

हंसना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अच्छा टॉनिक है। खुलकर हंसने से रक्त संचार की गति बढ़ जाती है। पाचन तंत्र अधिक कुशलता से कार्य करते हैं। हंसने के कारण फेफड़ों के रोग नहीं होते हैं। हंसने से पसीना अधिक आता है, जिससे शरीर की गंदगी बाहर निकलती है। हंसना जीवन की नीरसता, एकाकीपन, थकान, मानसिक तनाव और शारीरिक दर्द से राहत दिलाता है।

पेरिस में एक डॉक्टर अपने रोगियों को हंसाकर आश्चर्यजनक ढंग से रोगों से मुक्ति दिलाता है। वह हर रविवार को एक हाल में मरीजों की आंखों पर पट्टी बांध कर बिठाता है। ग्रामोफोन पर ऐसा रिकॉर्ड बजाता है, जिसे सुनकर हॉल कहकहों से गूंज उठता है। कुछ वैज्ञानिकों ने तो यहां तक कहा है कि हंसी के बिना जीवन ही नहीं है। 

हंसना- हंसाना मानसिक तनाव को दूर करने के साथ शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करता है। रोगों से लड़ने की हमारी ताकत बढ़ जाती है। यह एक ऐसी कसरत है, जो बिना अतिरिक्त समय लगाये कभी भी, कहीं भी बहुत ही सहजता व सरलता से की जा सकती है। हंसने और मुस्कुराने की कोई उम्र नहीं होती है, न कोई बंधन। वैज्ञानिकों ने माना है कि जो व्यक्ति जी भर कर हंसता है, वह अधिक जीता है।

हास्य योग है एक टॉनिक

क्रोध, भय, तनाव और द्वेष जैसे नकारात्मक भाव जहां शरीर पर घातक प्रभाव डालते हैं, वहीं हास्य योग से मानव के शरीर में ऐसे रसायनों का स्नव होता है, जो स्वास्थ्य पर अनुकूल प्रभाव डालते हैं। हास्य योग जहां एक सशक्त व्यायाम है, वहीं टानिक भी है।

विधि

पद्मासन, सुखासन, चलते-टहलते, घूमते, घर-ऑफिस में बैठे हुए भी हास्य योग का अभ्यास किया जा सकता है। पहले आप मंद-मंद मन ही मन मुस्कुराएं, फिर धीरे-धीरे खूब ठहाके लगाकर हाथों को ऊपर उठाकर लगातार हंसते रहें। शुरू में 2 से 3 मिनट तक इसका अभ्यास अवश्य करना चाहिए, फिर समयानुसार इसे बढ़ाकर 10 मिनट तक ले जाएं।  8 साल के बच्चे से लेकर 80 साल के बुजुर्ग तक सभी इस योग का अभ्यास कर सकते हैं।

लाभ

हास्य योग से हमारे शरीर में एपीनेफीन, नारएपीनेफीन और डोपामाइन जैसे हार्मोस सक्रिय होते हैं। इससे हमारे स्वास्थ्य पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है। हमारा पेट और सीना मजबूत होता है। हमारे शरीर की 100 से अधिक मांसपेशियों से लेकर श्वसन तंत्र की मांसपेशियां तक सभी इसमें शामिल होती हैं। यह अधिक तनाव, निम्न रक्तचाप, उच्च रक्तचाप, मधुमेह जैसे रोगों में रामबाण का काम करता है। हास्य योग का प्रभाव हमारे हृदय पर विशेष रूप से पड़ता है। हास्य योग के कारण हृदय रूपी पंप की गति बढ़ जाती है, जिससे शरीर के सभी भागों में रक्त भलीभांति पहुंचता है। फेफड़ों, पेट और आंखों पर इसका काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है। हंसते-हंसते आंखों से निकले आंसू आंखों की सफाई करते हैं। हास्य योग करने वाला साधक आजीवन अवसाद, मानसिक तनाव, अनिद्रा और नकारात्मक सोच से बचा रहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है हास्य योग