DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संजय गांधी जैविक उद्यान में बाघ की मौत

पटना के संजय गांधी जैविक उद्यान की शान कहलाने वाले राम नाम के बाघ की मौत हो गई है। उसकी उम्र करीब 17 वर्ष बताई जा रही है। उसकी मौत की वजह से पूरे जैविक उद्यान में शोक का माहौल है।

संजय गांधी जैविक उद्यान के निदेशक अभय कुमार ने बुधवार को बताया कि राम ने मंगलवार को अंतिम सांस ली। राम के शव के पोस्टमार्टम के बाद उद्यान परिसर में ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सकों का कहना है कि राम अब बुजुर्ग हो गया था, जिसके कारण उसकी मौत हो गई।

कुमार ने बताया कि राम काफी बूढ़ा हो गया था और अब उसे चलने-फिरने में भी परेशानी होने लगी थी। कुमार के अनुसार उसे कमर और जोडों की बीमारी भी हो गई थी। उन्होंने कहा कि राम के बुजुर्ग होने के बाद उद्यान के चिकित्सक उसका उपचार कर रहे थे लेकिन उसकी मौत हो गई।

गौरतलब है कि राम की मौत के बाद इस जैविक उद्यान में अब एक भी बाघ नहीं बचा है। अब यहां सिर्फ दो बाघिन ही हैं। कुमार कहते हैं कि पिछले कई साल से यहां बाघ लाए जाने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन अब तक इसमें सफलता नहीं मिली है। राम को वर्ष 1999 में मध्य प्रदेश के शिवपुरी चिडियाघर से लाया गया था।

उल्लेखनीय है कि जैविक उद्यान में एक माह में पशु की मौत की यह तीसरी घटना है। इससे पहले दो भालुओं की भी मौत हो गई थी। 

पटना का 'दिल' माने जाने वाले और 152.95 एकड़ क्षेत्र में फैले इस उद्यान में 800 से ज्यादा जानवर लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। साथ ही इसकी प्राकृतिक छटा देखने के लिए देश-विदेश से कई लोग यहां पहुंचते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संजय गांधी जैविक उद्यान में बाघ की मौत