DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों से मिले जामिया के वीसी

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के वाइस चांसलर ने मंगलवार को हड़ताल पर बैठे छात्रों से मुलाकात की। उन्होंने छात्रों से कहा है कि हम कोर्ट के फैसले के खिलाफ नहीं जा सकते। ऐसा करना न्यायपालिका की अवमानना होगा। हम स्वयं विवि के नियमों का उल्लंघन नहीं करेंगे।

सभी छात्र विवि के नियमों से भली-भांति परिचित हैं तो उनसे उम्मीद की जाती है कि वह उनका पालन करेंगे। दूसरी तरफ जामिया मिल्लिया इस्लामिया विवि के छात्रों को बीमारी का झूठा मेडिकल सर्टिफिकेट मुहैया कराने वाले डॉक्टरों के खिलाफ कार्यवाई के लिए विवि प्रशासन मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) से शिकायत कर चुका है। विवि प्रशासन के अनुसार विवि के छात्र मेडिकल में 15 फीसदी छूट दिए जाने का गलत फायदा उठा रहे हैं।

छात्रों ने उपस्थिति में छूट पाने के लिए डॉक्टरों से बीमारी का गलत सर्टिफिकेट बना कर जमा करवाया है। विवि प्रशासन के विवि के शैक्षणिक स्तर में सुधार के लिए कक्षाओं में 75 फीसदी की उपस्थिति अनिवार्य की गई है। लेकिन विवि के ऑर्डिनेंस में मेडिकल आधार पर छात्रों को जो 15 फीसदी छूट का जो प्रावधान है छात्र उसका दुरुपयोग कर रहे हैं। वीसी से मुलाकात के बाद फिलहाल छात्रों ने अभी कुछ तय नहीं किया है कि वह अपनी हड़ताल को बरकरार रखें या नहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्रों से मिले जामिया के वीसी