DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिना दवा के दर्द दूर!

हर सुबह सोकर उठने के बाद आप पर अलसाहट तारी रहती है! रात के किसी भी पहर आपकी नींद टूट जाती है, फिर आप देर तक जागते हैं! शरीर के किसी न किसी हिस्से में अक्सर दर्द बना रहता है! अनजाने खौफ सताते हैं या बेवजह डर लगता है! जानते हैं ऐसा क्यों होता है?

ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि आप थके हुए हैं। तनाव में हैं। आपका खान-पान दुरुस्त नहीं है। जीवन शैली भी बिखरी हुई है। इन शिकायतों से निपटने के दो रास्ते हैं- आप डॉक्टर के पास जाइए और एंटीबायोटिक दवाओं या इंजेक्शन का इस्तेमाल कीजिए। या फिर अपनी थकान, तनाव और गलत खान-पान के असर को मिटाने के लिए कुछ आरामदेह और सुकूनबख्श थेरेपी का इस्तेमाल कीजिए।

आयुर्वेद से लेकर फिटनेस की मॉडर्न साइंस तक ऐसी कई थेरेपी हैं, जो आपकी शिकायतें दूर कर सकती हैं। इन थेरेपी को रीजेनोवेशन थेरेपी कहते हैं। यानी ऐसी थेरेपी, जो आपके शरीर को जरूरत मुताबिक आराम पहुंचा कर उसे फिर से मेहनत करने लायक बनाती है। योग गुरु सुनील कहते हैं,‘रीजेनोवेशन ऐसी थेरेपी है, जो दिल और दिमाग की छुपी बीमारियों को दुरुस्त कर देती है।’

दरअसल दिल-दिमाग से जुड़ी ऐसी कई बीमारियां हैं, जो रोजमर्रा की थकान, गलत खान-पान और तनाव से उपजती हैं। रीजेनोवेशन थेरेपी के जरिए इनसान रिलैक्स होता है, उसका शरीर अंदर से साफ होता है, नतीजतन उसके जिस्मोजां में सुकून सा भर जाता है और ढेर सारी तकलीफों से आराम मिल जाता है। खास बात यह कि हम दवाओं या इंजेक्शन के सेवन से भी बच जाते हैं। आइए इनमें से कुछ खास थेरेपी से रूबरू होते हैं।

हर्बल मसाज या स्क्रबिंग
जिन लोगों के जोड़ों या मसल्स में अक्सर दर्द बना रहता है, आर्थराइटिस की शिकायत है। ये थेरेपी उनके लिए मुफीद है। परंपरागत जड़ी-बूटियों से इनसान के पूरे शरीर की मसाज की जाती है। इससे मांसपेशियों का खिंचाव और तनाव दोनों खत्म हो जाता है। बात करें बॉडी की स्क्रबिंग की तो इसमें जड़ी-बूटियों की जगह फलों का इस्तेमाल किया जाता है। पपीते, बादाम, तुलसी, संदल वगैरह से शरीर की स्क्रबिंग की जाती है। इससे शरीर रिलैक्स होता है और दर्द से आराम मिलता है। इस तरह के दर्द से राहत दिलाने के लिए एक और थेरेपी है।  इस थेरेपी के तहत हर्बल जड़ी-बूटियों को कपड़े में बांध कर उनकी एक पोटली बनाई जाती है। इस पोटली से शरीर के प्रेशर प्वाइंट पर प्रेशर डाला जाता है और मसाज की जाती है। इससे भी शरीर को आराम मिलता है।

वमन क्रिया
अगर एसिडिटी या खाना आसानी से न पचने की दिक्कत है तो वमन क्रिया भी आजमाई जा सकती है। इस क्रिया में वमन करा कर शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकाले जाते हैं और शरीर अंदर से साफ हो जाता है। शरीर अंदर से साफ हो जाए तो कई बीमारियां अपने आप दूर हो जाती हैं।

शिरोधारा या डीटॉक्सिफिकेशन
अगर आपको हर वक्त थकान या आलस-सा महसूस होता रहता है तो शिरोधारा थेरेपी आपके लिए फायदेमंद है। इसमें तेल को माथे के बीचोबीच एक निश्चित दूरी से डाला जाता है। माना जाता है कि इससे पूरा शरीर रिलैक्स होता है और एक फ्रेशनेस-सी आ जाती है। इसके अलावा आप डीटॉक्सिफिकेशन भी करवा सकते हैं। डिटॉक्सिफिकेशन थेरेपी में शरीर को अंदर से साफ किया जाता है। यह कई तरह से होता है। इसमें विभिन्न विधियों से शरीर के विषैले पदार्थो को शरीर से बाहर निकाला जाता है, जिससे शरीर अंदर से साफ हो जाता है।

स्पाइसी बॉडी मास्क
एक बड़ी आम-सी समस्या है, जिससे गाहे-बगाहे हम अक्सर दो-चार होते हैं। हर वक्त चिंता या कुछ याद न रहने की शिकायत। सुबह सोकर उठने के बाद भी थकान ही महसूस होती है। यह समस्याएं तब होती हैं, जब हमारे शरीर में एनर्जी का लेवल घट जाता है और हमारा ब्लड सर्कुलेशन ठीक नहीं रहता। इस समस्या से राहत पाने के लिए हमें स्पाइसी बॉडी मास्क शरीर पर लगवाना चाहिए। इसमें कई सारे मसालों मसलन लौंग, अदरक, दालचीनी, काली मिर्च वगैरह को पीस कर उसका लेप शरीर पर लगाया जाता है। शरीर को गर्माहट मिलती है और एनर्जी महसूस होती है। ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक हो जाता है।

पिंड स्वेद थेरेपी
ब्लड सर्कुलेशन ठीक रखने और शरीर में स्टैमिना बनाए रखने के लिए एक और थेरेपी है। पिंड स्वेद थेरेपी। इस थेरेपी से आर्थराइटिस, पीठ और जोड़ों का दर्द और सांस संबंधी समस्याएं भी दूर होती हैं। इसमें शरीर से पसीना बाहर निकाला जाता है और शरीर को साफ किया जाता है। इसके बाद शरीर पर एक लेप लगाया जाता है, लगाते समय बॉडी को कुछ खास तरह के स्ट्रोक दिए जाते हैं। इसके बाद गर्म पानी से नहाना होता है।

बॉडी एण्ड स्पिरिट प्रेशर थेरेपी
कई बार ऐसा होता है कि हमें हमारे शरीर का संतुलन गड़बड़ाया लगता है। ऐसे में बॉडी एण्ड स्पिरिट प्रेशर थेरेपी काफी फायदेमंद होती है। इसमें फिटनेस एक्सपर्ट पहले पैरों से शरीर के प्रेशर प्वाइंट पर प्रेशर डालता है, फिर हाथों से मसाज करता है। यह थेरेपी शरीर, दिल, दिमाग में संतुलन बनाती है। बस एक बात का खयाल रखें कि ये थेरेपी केवल किसी एक्सपर्ट या डॉक्टर या योग एक्सपर्ट की सलाह से ही लें।

कहां मिलती हैं ये थेरेपी?
इनमें से ज्यादातर थेरेपी आपको वीएलसीसी, बॉडी केयर जैसे फिटनेस सेंटर में मिल जाएंगी। वमन क्रिया या हर्बल मसाज के लिए आप अपने शहर के किसी अच्छे योग सेंटर भी जा सकते हैं। इसके अलावा देश भर में कई रिजॉर्ट हैं, जहां इन थेरेपी की मदद से इनसान को फिट एण्ड फाइन बनाया जाता है। चेन्नई स्थित फिशरमैन कोव रिजॉर्ट, कुमारकोम स्थित कुमारकोम लेक रिजॉर्ट, त्रिवेंद्रम स्थित सूर्यसमुद्रम बीच गार्डन, तमिलनाडु स्थित कैराली आयुर्वेदिक रिजॉर्ट इनमें से प्रमुख हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिना दवा के दर्द दूर!