DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरी कामयाबी का श्रेय जुगराज को : रूपिंदर पाल सिंह

मेरी कामयाबी का श्रेय जुगराज को : रूपिंदर पाल सिंह

अजलान शाह कप में बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे युवा ड्रैग फ्लिकर रूपिंदर पाल सिंह ने अपनी कामयाबी का श्रेय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ड्रैग फ्लिकरों में शुमार जुगराज सिंह को देते हुए कहा कि पिछले एक साल में उन्होंने इस पर काफी मेहनत की है।
   
मलेशिया के इपोह में चल रहे अजलान शाह कप में पहले ही मैच में ब्रिटेन के खिलाफ हैट्रिक जमाने वाले रूपिंदर ने विश्व चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गोल करके मैच 1-1 से ड्रॉ कराया। उन्होंने मलेशिया के खिलाफ 5-2 से मिली जीत में भी एक गोल किया।
    
रूपिंदर ने इपोह से कहा कि मुझे यह सफलता रातोरात नहीं मिली है। इसके पीछे मेरे कोचों खासकर ड्रैग फ्लिक कोच जुगराज सिंह की बड़ी मेहनत है। वह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ड्रैग फ्लिकरों में रहे हैं और उन्होंने मुझे इसकी तकनीक के बारे में काफी कुछ सिखाया। यही वजह है कि मैं बड़ी टीमों के खिलाफ अच्छा खेल सका।
     
पिछले साल दिल्ली राष्ट्रमंडल खेल और ग्वांग्ज़ाउ एशियाई खेलों में स्टैंडबॉय के तौर पर टीम में रहे फरीदकोट के इस 21 वर्षीय खिलाड़ी का यह पहला बड़ा टूर्नामेंट है। अनुभवी संदीप सिंह की गैर मौजूदगी में उन्हें खेलने का मौका मिला है और वह टीम में अपनी जगह पक्की करने का यह सुनहरा मौका नहीं छोड़ना चाहते।
     
रूपिंदर ने कहा कि मेरा मुख्य लक्ष्य दिसंबर में होने वाली चैम्पियंस ट्रॉफी और फरवरी में ओलंपिक क्वालीफायर में अच्छा प्रदर्शन करना है। मुझे पहली बार शुरूआती टीम में जगह मिली है और मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहता हूं।

शॉर्ट कॉर्नर भारत की कमजोर कड़ी रहा है लेकिन रूपिंदर का मानना है कि अब भारतीय हॉकी के पास इतने विकल्प हैं कि यह कोई समस्या नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरे अलावा संदीप, धनंजय महाडिक, दिवाकर राम सभी इस पर काफी मेहनत कर रहे हैं। हमारे पास विविधता है और मुझे नहीं लगता कि अब पेनल्टी कॉर्नर कमजोर कड़ी है।
    
संदीप से प्रतिद्वंद्विता की बात को खारिज करते हुए रूपिंदर ने कहा कि भारत के इस नियमित पेनल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ से भी उन्होंने काफी कुछ सीखा है। उन्होंने कहा कि शिविरों में मैने संदीप से काफी टिप्स लिए हैं और हमेशा उनसे सलाह लेता रहता हूं।
     
चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ बुधवार को पहला मैच खेलने जा रहे रूपिंदर ने स्वीकार किया कि उन पर अपेक्षाओं का दबाव है लेकिन उन्हें अच्छे प्रदर्शन का यकीन भी है। रूपिंदर ने कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ यह मेरा पहला मैच है और निश्चित तौर पर दबाव है। मुझे यकीन है कि मैं अच्छा प्रदर्शन करूंगा। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गोल करने से मेरा हौसला बढा है और यह लय कायम रखना चाहता हूं।
      
हॉलैंड के ताइके ताकेमा और जुगराज को अपना आदर्श मानने वाले रूपिंदर ने पाकिस्तानी कप्तान मोहम्मद इमरान के इस दावे को भी खारिज किया कि पाकिस्तान का पेनल्टी कॉर्नर भारत से मजबूत है। उन्होंने कहा कि सोहेल अब्बास बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर हैं। उनके नाम विश्व रिकॉर्ड है लेकिन 2003 में जुगराज का एक्सीडेंट नहीं हुआ होता तो यह रिकॉर्ड उनके नाम होता। मुझे नहीं लगता कि हमारा पेनल्टी कॉर्नर किसी मायने में उनसे कमजोर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेरी कामयाबी का श्रेय जुगराज को : रूपिंदर पाल सिंह