DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जमीन की जंग में कूदे ‘सियासत के सिपाही’

किसानों और पुलिस के बीच शनिवार को हुए खूनी संघर्ष के बाद सुलग रहा भट्टा गांव अब सियासत का अखाड़ा बनता जा रहा है। प्रशासन द्वारा भट्टा गांव की किलेबंदी के बावजूद जमीन की जंग में शामिल होने सियासत के सिपाही पहुंच रहे हैं। हालांकि पुलिस उन्हें कामयाब नहीं होने दे रही।
सोमवार को भट्टा जाने की कोशिश कर रहे भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह को पुलिस ने नोएडा गेट पर रोक कर गिरफ्तार कर लिया। जबकि जद(यू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव और समाजवादी पार्टी नेता शिवपाल यादव, राष्ट्रीय प्रवक्ता मोहन सिंह और सांसद नीरज शेखर को डीएनडी पर गिरफ्तार किया।
कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने भी इस आंदोलन के लिए प्रदेश सरकार को जिम्मेदार बताया है और न्यायिक जांच की मांग की है।
वहीं, लखनऊ में गृह सचिव दीपक कुमार और आईजी ए.पी. माहेश्वरी ने सोमवार को संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि नोएडा के साथ ही आगरा और अलीगढ़ में सोमवार को पूरी तरह शांति रही। किसी भी जिले से गड़बड़ी की सूचना नहीं है पुलिस ने नोएडा में हुई हिंसा व उपद्रव को लेकर आठ रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसके अलावा आगरा के एतमादपुर थाने में भी तीन एफआईआर दर्ज की गई है। हिंसा व आगजनी के आरोप में 22 लोग गिरफ्तार किए गए हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जमीन की जंग में कूदे ‘सियासत के सिपाही’