DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ये कैसे बुजुर्ग

यहां बुजुर्ग शब्द के उच्चरण के साथ ही अक्स उभरता है एक असुरक्षित व्यक्ति का। कारण, बच्चों कामकाज के लिए किसी और शहर में और वे घरेलू नौकरों के सहारे जिंदगी के बाकी दिन गिनने को मजबूर। ऐसे व्यक्ति लुटेरों के लिए आसान निशाना हो जाते हैं। दिल्ली ने आए दिन बुजुर्गो को इसी रूप में देखा है। लेकिन इसी शहर ने बुजुर्गो का एक और रूप भी पेश किया है। वह निशाना बनता नहीं, बनाता है। इतना ही नहीं, निशाना कैसे बनाते हैं, सिखाता भी है। इस उम्र में अपनी क्या सोचोगे, नई पीढ़ी की ही सोच लेते तो ऐसे प्रोफेसर तो नहीं ही बनते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ये कैसे बुजुर्ग