DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संसद में अमेरिका पर बरसे पाकिस्तानी PM गिलानी

संसद में अमेरिका पर बरसे पाकिस्तानी PM गिलानी

ओसामा बिन लादेन के खिलाफ अमेरिकी कार्रवाई के बाद कई गंभीर सवालों से घिरे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने सोमवार को अमेरिकी को घेरने की कोशिश की। वाशिंगटन की ओर इशारा करते हुए उन्होंने सवाल खड़ा किया कि लादेन के उदय के लिए कौन जिम्मेदार है।

ऐबटाबाद में अमेरिकी अभियान के एक सप्ताह बाद आज नेशनल असेम्बली को संबोधित करते हुए गिलानी ने कहा कि दूसरे की गलत नीतियों और गलतियों के लिए हमें जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। पाकिस्तान अलकायदा का जन्मस्थान नहीं है। ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान और अफगानिस्तान आने का न्यौता हमने नहीं दिया था।

गिलानी ने आईएसआई और पाकिस्तानी सेना की प्रशंसा करते हुए कहा कि लादेन का पता न लगा पाना वैश्विक खुफिया एजेंसियों की नाकामी है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की सरकारी संस्थानों में कोई मतभेद नहीं है। मुझे सरकार, आईएसआई और सेना के नेतृत्व पर पूरा भरोसा है। आईएसआई राष्ट्रीय संपत्ति है। हमें आतंकवाद विरोधी अभियान में आईएसआई की भूमिका पर फक्र है।

गिलानी ने दावा किया कि आईएसआई की ओर से मुहैया कराई गई जानकारियों की बुनियाद पर ही अमेरिका लादेन तक पहुंचा और उसे मार गिराया। अलकायदा और लादेन को पाकिस्तान में पनाह दिए जाने से जुड़े आरोपों को खारिज करते हुए गिलानी ने कहा कि अपराध में शामिल होने और अक्षमता के आरोप बेतुके हैं।

इस मौके पर गिलानी ने लादेन मामले की जांच का भी एलान किया। जांच की जिम्मेदारी लेफ्टिनेंट जनरल जावेद इकबाल को सौंपी गई है। अमेरिकी कार्रवाई के प्रति आक्रामक रुख अख्तियार करते हुए गिलानी ने कहा कि हम पाकिस्तानी सीमा के अंदर घुसकर की गई अमेरिका की एकतरफा कार्रवाई को खारिज करते हैं। इस तरह के अभियानों में कई जोखिम भी रहते हैं। यह देखा गया कि अमेरिकी सुरक्षा बलों ने अपने ही एक हेलीकॉप्टर को नष्ट कर दिया।

वाशिंगटन के साथ मतभेंदों के संदर्भ में गिलानी ने कहा कि पाकिस्तान और अमेरिका के विचारों में समानता है, लेकिन अभियान तरीके को लेकर असहमति है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि अलकायदा के सरगना के मारे जाने से वाकई इंसाफ हुआ है, लेकिन पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ जीत का ऐलान करने की जल्दबाजी में नहीं है। लादेन की विरासत को भी खत्म करना होगा।

गिलानी ने कहा कि पाकिस्तान के पड़ोसी देशों और बड़ी ताकतों के साथ रिश्ते अच्छे हैं। इसके साथ उन्होंने आगाह किया कि ऐबटाबाद जैसी किसी दूसरी कार्रवाई का मुहंतोड़ जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को इस तरह की कार्रवाई पर प्रतिक्रिया करने का पूरा अधिकार है। भारत का हवाला देते हुए गिलानी ने कहा कि उनका देश नई दिल्ली के साथ रिश्ते को सकारात्मक और रचनात्मक ढंग से आगे बढ़ाएगा।

पाकिस्तानी संसद से गिलानी ने वाशिंगटन को स्पष्ट संदेश देने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि आतंकवाद विरोधी अभियान में सहयोग के साथ ही पाकिस्तान के हितों को पूरा सम्मान मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि अमेरिका और पड़ोसी देशों मसलन, अफगानिस्तान एवं भारत के साथ पाकिस्तान के रिश्ते अच्छे हैं।

गिलानी ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान ने अपने 30000 से अधिक लोगों को खो दिया। पाकिस्तान के अलावा और शायद ही किसी देश के लोगों ने इतनी सारी चुनौतियों का सामना किया है। मुझे उम्मीद है कि पाकिस्तान सभी चुनौतियों का मुकाबला करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संसद में अमेरिका पर बरसे पाकिस्तानी PM गिलानी