DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो अभियंताओं को 10 वर्ष का कारावास

मुजफ्फरपुर जिले में स्थित निगरानी विभाग के न्यायालय ने पूर्वी चंपारण जिला के घोडासाहन शाख नहर प्रमंडल के सुधार कार्य में घोटाले के मामले में तत्कालीन सहायक अभियंता दिग्विजय सिंह और कनिष्ठ अभियंता पारसनाथ शर्मा को विभिन्न धाराओं में क्रमश: दस वर्ष, सात वर्ष और पांच वर्ष के कारावास के साथ ही एक-एक लाख रुपये अर्थदंड की सजा सुनायी है।
  
बिहार राज्य निगरानी ब्यूरो से प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस मामले में निगरानी थाना में 12 अगस्त 1987 को इन दोनों के अलावा तीन अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी।

जांच में पाया गया था कि नहर में विघटित दूरी के बीच के दोनों तटों के सुधार कार्यों की जांच करने वाले सहायक अभियंता ने कार्य से अधिक राशि का विपत्र तैयार किया था।
  
उल्लेखनीय है कि मामले की सुनवाई के दौरान आरोपियों में से संवेदक भगवत कुमार महतो एवं जफएल इस्लाम सिददीकी तथा तत्कालीन कार्यपालक अभियंता की मृत्यु हो गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो अभियंताओं को 10 वर्ष का कारावास