DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बॉलीवुड के बाद थियेटर की ओर लौटेंगे इरफान

बॉलीवुड के बाद थियेटर की ओर लौटेंगे इरफान

बॉलीवुड से हॉलीवुड तक का सफल करने वाले फिल्म अभिनेता इरफान खान फिर से अपनी जडों की ओर लौट रहे हैं। वह अपनी जीवन साथी सुतपा सिकंदर के साथ रंगमंच जगत में फिर से धमाल मचाने की तैयारी कर रहे हैं।

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, दिल्ली के स्नातक के छात्रों को अभिनय का प्रशिक्षण देने दिल्ली आए इरफान खान ने एक विशेष बातचीत में कहा कि रंगमंच का अनुभव फिर से पुनर्जीवित करने की सोच रहा हूं। फिल्मों के कारण काफी समय से इस अनुभव से कटा रहा हूं। नाटक अभी तय नहीं किया है। अभी कई स्क्रिप्ट पढ़ रहा हूं। दर्शकों के सामने रूबरू अभिनय कला के प्रदर्शन का सुख लेने की इच्छा फिर से जोर मार रही है।
    
इरफान ने कहा कि निश्चित तौर पर इस नाटक में मेरी पत्नी सुतपा भी साथ होंगी क्योंकि एनएसडी में भी पढ़ाई के दौरान हमने साथ-साथ नाटक किए हैं और अब फिर से एक ऐसा मौका आएगा जब हम साथ काम कर सकेंगे। सुतपा को स्क्रिप्ट की अच्छी समझ है और नाटक के बारे में फैसला लेने में भी उनकी अहम भूमिका होगी।
    
सुतपा ने कहा कि अभी तक हमने जो स्क्रिप्ट पढ़ी हैं उनमें रूसी लेखक चेंगिज एत्मातोव का नाटक फूजियामा सबसे ज्यादा पसंद आया है। अभी भी इसे पक्का नहीं किया है लेकिन और कोई बेहतर नाटक नहीं दिखा तो इसी का मंचन करेंगे।

सुतपा ने कहा कि नाटक की कहानी भी हमारे जीवन के आसपास की है। नाटक में फूजियामा एक पहाड़ी टीले का नाम है जहां कुछ पुराने दोस्त लंबे अरसे यानी लगभग 11-12 साल के बाद एक साथ मिलते हैं और खेल खेल में उस टीले के सामने अपने अपने गुनाहों को कबूल करते हैं कि उन्होंने जीवन में क्या गलतियां कीं। इसी क्रम में बहुत से चौंकाने वाले तथ्य सामने आते हैं कि सामान्य तौर पर सभ्य और भले दिखने वाले इंसान भी काफी विरोधाभासों से भरे हुए होते हैं और कुल मिलाकर यह सब हमारी सामाजिक जटिलताओं के कारण ही है।
     
वह कहती हैं कि हमने भी पढ़ाई के समय काफी सपने देखे थे कि हम अपने जीवन में क्या करेंगे और लोगों से कैसे पेश आएंगे। अब हमारा भी एक तरह से ऐसा समय आया है कि हम अपने जीवन पर लौट कर निगाह डालें कि हमने जो सोचा था क्या वैसा कर पाए। यह एक मजेदार अनुभव और अपने ही जीवन में झांकने का विशिष्ट अनुभव होगा।
    
उन्होंने कहा कि मेरी कोशिश होगी कि हमारे 87 बैच के छात्रों को लेकर ही हम नाटक करें जो आज अपने अपने जीवन के अलग अलग क्षेत्रों में काम कर रहे हैं। सुतपा ने कहा कि कहानी की पृष्ठभूमि रूस की है इसलिए फूजियामा नाटक करने का फैसला लेने पर हमें इसे आज के भारत के संदर्भ में ढ़ालना पड़ेगा और आज के द्वन्द्व को रेखांकित करना पड़ेगा।
    
उम्मीद है कि सुतपा और इरफान की जोड़ी अपने साथी कलाकारों के साथ मिलकर थियेटर दर्शकों को एक नया अनुभव देगी और नाटकों का यह सिलसिला कामयाबी की मंजिल तक पहुंचेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बॉलीवुड के बाद थियेटर की ओर लौटेंगे इरफान