DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

नेता जी कहिन..नेता जी तबीयतवाले हैं। टीका-चंदन, तिलक नहीं लगाते, पर नाम इसी से मिलता जुलता है। पहले अबरख की खदान की चमक से चमके थे। देश की पुरानी पार्टी के पुरोधा रहे। सांसद थे, लेकिन अब पूर्व हो गये हैं। क द-काठी ठीक-ठाक है। बॉडीगार्ड तो अब भी साथ चलता है। सुरक्षा कम, झोला ढोने का काम अधिक करते हैं। यात्रा एसी में ही होती है। अब चुनाव का समय है, तो नेता जी की सक्रियता लाजिमी है। नेताजी को तमाड़ चुनाव प्रचार के लिए भी आमंत्रित किया गया। यात्रा आरंभ करने के पहले नेता जी पूछते हैं, प्रचार के लिए कहां जाना है? आखिर पूरा क्षेत्र ही नक्सल प्रभावित है। फिर फोन से नेता जी कहते हैं-अच्छा बताइए तो गाड़ी कौन सी है? और हां हम शाम से पहले ही रांची लौट जायेंगे। ठहरने का इंतजाम कहां किये हैं। सब एसी है न? भोजन का इंतजाम भी ठीक-ठाक है न? व्यवस्था की बात सुनकर नेता की सुरक्षा में तैनात और आगे की सीट पर बैठे सिपाही जी भी गद्गद्। भाई जब नेता जी ही पैदल नहीं चलेंगे, तो गार्ड साहेब कौनो पैदल चलेंगे? और जब नेता जी पैदल नहीं चलेंगे, तो जनता तक पहुंचेंगे कैसे? और नहीं पहुंचेंगे तो वोटवा..? अर चलता है ब्रदर, सब चलता है। व्यवस्था में बदलावड्ढr कोयला मंत्रालय ने कोयला का कारोबार करनेवालों के लिए बैंक गारंटी घटा दी है। पहले यह छह फीसदी हुआ करता था। अब इसे 1.5 फीसदी कर दिया गया है। इसी तरह बुकिंग में एडवांस देने के प्रावधान में भी तब्दीली की गयी है। पहले पूरी बुकिंग पर एडवांस देना पड़ता था। अब मात्रा के मुताबिक यह लिया जाता है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग