DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुस्लिम पक्ष से सुप्रीम कोर्ट के तीन वकील करेंगे बहस

रामजन्मभूमि- बाबरी मस्जिद विवाद की प्रथम अपील की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में सोमवार से शुरू हो रही है। सोमवार को जिन अपीलों पर बहस होनी है, उनमें चार मुस्लिम पक्ष से और दो हिन्दू पक्ष से हैं। ऑल इण्डिया मिल्ली काउंसिल नई दिल्ली के राष्ट्रीय सदस्य व हेलाल कमेटी के कन्वीनर खालिक अहमद खाँ और जमीयत उलमा-ए-हिन्द के जनरल सेकेट्री मौलाना हस्बुल्लाह बादशाह ने संयुक्त बयान में कहा कि जिन अपीलों पर सोमवार को सुनवाई होनी है, उनमें हाफिज मोहम्मद सिद्दीक जमीअत उलमा-ए-हिन्द बनाम महन्त सुरेश व अन्य की अपील पर अधिवक्ता अनीस सोहरवर्दी व आरसी गुबरेले बहस करेंगे।

सुन्नी सेन्ट्रल बोर्ड ऑफ वक्फ उप्र बनाम महन्त सुरेश दास व अन्य की अपील पर अधिवक्ता शकील अहमद व आरसी गुबरेले बहस करेंगे। मिसबाहुद्दीन बनाम महन्त सुरेश दास व अन्य की अपील पर अधिवक्ता एजाज मकबूल व आरसी गुबरेले बहस करेंगे। इसी तरह मोहम्मद हाशिम अंसारी बनाम महन्त सुरेश दास व अन्य की अपील पर अधिवक्ता एमआर शम्शाद व आरसी गुबरेले बहस करेंगे।

खालिक अहमद खाँ के मुताबिक, मुस्लिम पक्ष की ओर से सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता पीपी राव, राजीव धवन व अनूप जार्ज चौधरी अपील की बहस में भाग लेंगे। इनकी सहायता के लिए अधिवक्ता जफरयाब जिलानी, मुश्ताक अहमद सिद्दीकी, सैय्यद कफील अहमद व फारूक अहमद मौजूद रहेंगे।

खां ने बताया कि 30 सितम्बर 2010 के हाईकोर्ट इलाहाबाद की लखनऊ खण्डपीठ के निर्णय की सर्टिफाइड कॉपी अभी तक न मिलने के कारण मौलाना महफूजुर्रहमान, फारूक अयोध्या व अनवर की ओर से की जाने वाली अपीलें अभी लम्बित हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में अपीलों को लेकर जो लोगों में भ्रम था कि वर्षो लग जाएँगे, लेकिन शीघ्र सुनवाई शुरू होने से न्यायालय के प्रति लोगों में विश्वास पैदा हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुस्लिम पक्ष से सुप्रीम कोर्ट के तीन वकील करेंगे बहस